Home

Forum New

Read

Contest


Write

Write blog

Log In
CATEGORIES
संत रविदास जी की कहानी गुलाबचंद एन. पटेल की जुबानी
 19 February 2019  
Art

" मन चंगा तो कठौती में गंगा "    - संत रविदास1450 - 1520कवि, संत, समाज सुधारक और आध्यात्मिक गुरु संत रविदास का जन्म 19 फरवरी 1450, महा सूद पूनम के दिन वाराणसी में जन्मे हुए संत रविदास जी ने बचपन में ही अत्यंत छूता छूत और जाति भेद का सामना करना पड़ा था, मध्य कालीन संत रामानंद का शिष्य बनकर उन्होने धार्मिक आध्यात्मिक जीवन शुरू किया था, रविदास ने जाती और लिंग भेद का विरोध साहित्य सर्जन के द्वारा किया था, थोड़े ही समय में उनके हजारो शिष्य तैयार हुए थे, उसका प्रमाण मीरा बाई की पंक्ति में भी हे, " गुरु रैदास मिले मोहि पूरे, धूर से कलम भीड़ी,सत गुरु साईं दई जब आके जोत रली"धर्म संस्कृति के लिए जरूरी है, धार्मिक आस्था, मन की पवित्रता या शुद्धता दिखाने की जरूरत नहीं है, उनका साहित्य अवधि, राजस्थानी, खड़ी बोली और अरबी भाषा मिस्र होने के बावजूद ये लोकवाणी की तरह हे," धन लोभी मत बनो, धन कभी स्थिर नहीं होता "" आजीविका के लिए सख्त परिश्रम कीजिए "ये संत रविदास जी के ने अपने शिष्यों को संदेश दिया गया था, संत रविदास के पदों का संग्रह "गुरु ग्रन्थ साहिब" मे भी हुआ है, 15 वी सदी के ये महान संत और निर्गुण भक्ति के प्रणेता संत रविदास की स्मृति में सीख संप्रदाय मे "रविदास या पंथ "पंथ का निर्माण हुआ है,वाराणसी उत्तर प्रदेश में गंगा घाट पर भारत सरकार के द्वारा गुरु रविदास घाट का निर्माण किया गया है, ये इस महा मानव को दी गई अंजलि ही है!  इस समय देश में जातिवाद का विरोध किया गया था लेकिन उन्हे उनके सत्य और धर्म भावना के कारण और भगवान के करीब होने के कारण उन्हे स्वीकार कर के उन्हे मान सम्मान दिया गया था, आज भी देश और विदेश में उनकी जन्म जयंती समारोह मनाया जाता है,हिन्दी भक्ति काव्य मीराबाई, कबीर और संत रविदास ने रचे थे | वो शिक्षा में पारंगत न होने के बावजूद एक उमदा भक्ति काव्य समाज को दिया गया है | सामाजिक चेतना और आध्त्यात्मिकता की ओर ले जाने वाले ये हिन्दी भक्ति काव्य ने भारत में संस्कृति का सिंचन किया है |मीराबाई ने कृष्ण भाक्ति में लीन हो कर, राजा राणा के राज्य को तिलांजलि दे दी थी | राणाजी ने मीरा की परीक्षा के लिए जहर दिया था | वो कृष्ण के प्यार में झहर भी पी लेती है फिर भी, उसे कोई तकलीफ नहीं हुई थी | मीरा के पद समाज को श्री कृष्ण की भक्ति की ओर ले जाने में सफल हुए है |कबीरजी भी उतने ही धार्मिक थे | उनका साहित्य भी समाज के जीवन के साथ सरोकार रखता है | हिन्दी भक्ति काव्य के रूप में वाल्मिक रचित रामायण, हिन्दी महा भक्ति काव्य है | रामायण समाजीक जीवन कैसे जिया जाता है, पितृ प्रेम, मात्रु प्रेम, पत्नी प्रेम, भात्रू भाव, प्रजा प्रेम, मित्र प्रेम आदि की रीत समाज को दी है |महाभारत भी एक उमदा हिन्दी महा काव्य है | जिसकी रचना वेद व्यासजी ने की थी | रामायण और महाभारत दोनों पहले भारतीय धर्म भाषा, संस्कृत में लिखे गए थे, लेकिन उसका हिन्दी में संस्करण भी किया गया है | ये दोनों हिन्दी भक्ति ग्रन्थ सामाजिक जीवन में उन्नति लाते है | सामजिक जीवन की परिभाषा शिखाते है |इसी तरह, संत रविदासजी के द्वारा रचे गए भक्ति काव्य भी एक नयी दिशा देता है | उन्हों ने मांसाहार और नशे से दूर रहने की सीख दी है | वो कर्म कांड और मूर्ति पूजा के विरोधी थे | इरान की यात्रा मुलाकात दरम्यान, वो बेगमपुरा शहर की कल्पना करतें है | बेगमपुरा 7 होना चाहिए, जहाँ जात-पात में भेदभाव न हो, सब को अन्न मिले, सब सुख चेन से जिए और धर्म भावना के साथ अपना जीवन व्यतीत करे, ऐसी सुन्दर कल्पना संत रविदासजी ने ६०० साल पहले की है | संत रविदास के ४० भक्ति पद जो पंजाब में गुरु नानकजी के ‘ग्रन्थ साहिब’ में शामिल है | जो जन जीवन को एक नयी ऊर्जा प्रदान करता है | इसी तरह, हिन्दी भक्ति काव्य सामाजिक चेतना और संस्कृति के जतन के लिए एक उमदा हिन्दी भक्ति काव्य है | वो समाज जीवन से बहुत गहरा सरोकार रखता है |  हिन्दी भक्ति काव्यकी रचना संत रविदास, मिराबाई और संत कबीरने बहुत की है | संत रविदास का साहित्य हिन्दी, अंग्रेजी और पंजाबी में बहुत ही उपलब्ध है |संत रविदास की वाणीजो तुम गिरिवर तो हम मोरा,जो तुम चन्द्र तो हम भये है चकोरा ||माधवे तुम न तोरो तो हम नहीं तोरी,तुम सो तोरी तो किन सो जोरी ||जो तुम दिवरा तो हम बाती,जो तुम तीरथ तो हम जाती ||रैदास राती न सोइए, दिवस न करिये स्वाद,अहिनिसी हरिजी सुमिरिए, छांड सकल अपवाद ||चित सुमिरन करो नैन अवलोकनों,श्रवण वाणी सौ जस पूरी राखौ ||मन सो मधुकर करो, चरण ह्रदय धरो,रसना अमृत सम नाम भाखो ||मेरी प्रीती गोविन्द खोजनी घेरे,मैं तो मोल महँगी लई लिया सतै ||साध संगत बिना भाव नहीं उपजे,भाव बिना भक्ति नहीं होय तेरी ||कहे रविदास एक बिनती हरी स्यो,पैज राखो राजा राम मोरी  ||भारत वर्ष के इतिहास में मध्यकालीन युग में लोगों की मुसीबते ज्यादा थी, देश, प्रान्तों में बटा हुआ था | मुस्लिमोने विजय नहीं पाया लेकिन तबाही मचायी, मंदिर जो रविदास को प्रिय थे उसीको तोड़ते हुए संत रविदासजी ने देखा था | क्षुद्र को अछूत माना जाता था | मुस्लिम मूर्ति पूजा के विरोधी थे | धर्म परिवर्तन कराया गया | इस युग में पंजाब में गुरु नानक और पूर्व उत्तर मैं कबीर साहबने नइ परंपराओं को जन्म दिया |संत रविदास आध्यात्मिक सूर्य की आकाश गंगा थे | उनका जन्म राजस्थान में हुआ ऐसी लोक वायका है | लेकिन, वो पश्चिम भारत में ज्यादा रहे | वो काशी में रहते थे और मोची का काम करते थे | उनका जन्म १३९९ इस्वीसन और मृत्यु १५२७ में माना जाता है |उन्हों ने जाती प्रथा और मूर्ति पूजा और क्रिया कांड का विरोध किया था | वो सहिष्णु और सादगी से जीये थे | वो ब्राह्मिन नहीं थे | शास्त्रार्थ में पंडित को उन्हों ने पराजित किये थे | चितोड की रानी मीराबाई उनकी शिष्या बनी थी |गुरु शिष्य का सम्बन्धजो तुम गिरिवर तो हम मोरा,जो तुम चन्द्र तो हम भये है चकोरा ||माधवे तुम न तोरो तो हम नहीं तोरी,तुम सो तोरी तो किन सो जोरी ||संत रविदासजी अपने गुरु के प्रति अपनी प्रीत का वर्णन करतें है | वो कहेतें है कि प्रभु, तुम जो पर्वत हो तो में मोरा हूँ | में आप के प्यार में पागल हूँ | मेरा प्रेम आप के प्रति चन्द्र और चकोर जैसे है | रविदासजी प्रभु को माधव कहके पुकारते है | उनका एक शेर है |आरजी सो अक्स था इके इल्तफाते दोस्त का,जिसको नादानी से ऐसे जाबिंदा समजा था में ||प्रभु आपने जब आंख घुमा ली तब पता चला कि ये तो काँटों की सेज है | संत रविदासजी अपने गुरु के प्रति प्रेम व्यक्त करते कहेते हैं कि,“जो तुम दिवरा तो हम बाती,जो तुम तीरथ तो हम जाती” ||वो कहते है की में बाती हूँ और तुम दिया हो | संत रविदासजी आदर्श शिष्य का जीवन कैसा होता है वो बताते है | सच्चे भक्त की पहचान कराते है |“रैदास राती न सोइए, दिवस न करिये स्वाद,अहिनिसी हरिजी सुमिरिए, छांड सकल अपवाद” ||तुम मेरे पास होते हो गोया, जब कोई दूसरा नहीं होता ||“मिटा दे अपनी हस्ती को अगर कुछ मरतबा चाहे कि दाना खाक में मिलकर गुले गुलजार होता है” || जब बीज मिटटी में मिल जाता है तब खुद का अस्तित्व खो देता है | वो फुल का रूप धारण कर लेता है | आध्यात्मिक मार्ग भी इसी तरह है | रविदासजी कहेते है कि सच्चा शिष्य रात में सोता नहीं है | शिष्य हंमेशा गुरु के साथ जुडा हुआ होता है |“हम अपने जजबाए बेदार को रुसवा नहीं करेती,शबे गम नींद से आँखों का आलूदा नहीं करेती” ||ये संत दर्शनजी महाराज कहते है | आशिक अपनी प्रियतमा से नजर नहीं हटाता, वो आँखों को बदनाम नहीं करता | संत रविदासजी आगे कहते है कि “ए दिल बेकरार ओ, रो ले, तडप ले, जाग ले, नींद की फ़िक्र क्यों, अभी रात मिली है बेसहर” | वो कहेते है कि रात दिन हमें प्रभु को यही करना चाहिए | सब छोडकर उनका स्मरण करना चाहिए |आध्यात्मिकता और धर्म:चित सुमिरन करो, नैन अवलोकनो,श्रवण वाणी सौ जस पूरी  राखौ ||मन सो मधुकर करो, चरण ह्रदय धरौं,रसना अमृत राम नाम भाखौ ||मेरी प्रीती गोविन्द स्योंजनी घटै,मैं तो मोल महँगी लई लिया सटै ||साध संगत बिना भाव नहीं उपजै,भाव बिनो भक्ति नहीं होय तेरी ||कहे रविदास एक बिनती हरी सयों,पैज राखो राजा राम मोरी  ||--संत रविदास--इसमें संत रविदास आदर्श शिष्य के जीवन का वर्णन कर रहे है | आध्यात्मिकता का मार्ग है | प्रेममयी बने बिना कुछ मिलता नहीं है | गुरु और शिष्य में प्रेम होता जरुरी है | जिस तरह चरवाहा अपने गौआ बकरियां को पहचानता है, उसी तरह गुरु अपने शिष्य को, अपने  जीवो को इकठ्ठा करके प्रभु के पास ले जाते है |जन्म मरण दौउ में नाही जन परोपकारी आये,           जिया दान है भक्ति भावन हरि सयों लेन मिलाये |शिष्य का जीवन भंवर जैसा होना चाहिए  | जैसे भंवर फुल के आसपास घूमता रहता है, वैसे गुरु के पास शिष्य को आगे पीछे घूमते रहना चाहिए |  शिष्य होना शरणागति है | रविदासजी प्रार्थना करते है, कि हमे संगत साधू की मिले | संगत से भाव पैदा होता है | प्रभु को याद करना अपने जीवन का लक्ष्य होना चाहिए | उनके मुख में प्रभु का ही नाम होता था | अपनी आँखों से प्रभु को ही देखना चाहते थे | संत रविदास और कबीर के गुरु स्वामी रामानंद थे | रविदासजी मांसाहार और नशा के विरोधी थे, जाती भेद का विरोध किया था | कर्म कांड के विरोधी थे, मद्य और पशु हिंसा के विरोधी थे | वो महेनत की कमाई से ही जीना चाहते थे |जाती पाती के फेरे में सुलज रह्यो सब लोग,मानवता को खात है रैदास जाती को रोग ||संत तुकाराम ने संत रविदासजी को एक साखी में कहा था, निवृति ज्ञानदेव सोपान चंगाजी, मेरे जी के नामदेव, नागाजन मित्र , नरहरी सोनार, रविदास कबीर सगा मेरे |शिखों के गुरु नानकदेवजी ने भक्ति काव्य में कहा है कि,“ रविदास चमारू उस्तुति करे, हर की रीती निमख एक गाई,पतित जाती उत्तम भया, चारो चरण पये जग गाई,रविदास हयाये प्रभु अनूप, नानक गोविद रूप”गुरु नानक कहते है कि चरों वर्णों के लोग संत रविदास के चरणों में नमन करते है क्यों कि वो ज्ञानी है |मेवाड़ की महारानी भक्त कवयत्री मीराबाई ने गुरु दीक्षा ले कर उनका सन्मान किया था | मीराबाई एक भक्ति काव्य में कहती है कि,“मेरा मन लागो गुरु सौ, अब न रहूंगी अटके,गुरु मिलियो रोहिदासजी, दिन्ही ज्ञान के गुटकी,रैदास मोहे मिले सद्गुरु, दिन्ही सूरत सुरई की,मीरा के प्रभु ते ही स्वामी, श्री रैदास सतगुरुजी“संत रविदासजी भक्ति युग के महान संत थे | गुरु संत रविदासजी के ४० पद “श्री गुरु ग्रन्थ साहेब” में समाविष्ट है | सोलह रागों में अपनी वाणी संत रविदासजी करते थे | रविदासजी कहते है कि,“रविदास ब्राह्मण मत पुजिये, जो होवे गुण हिन,पुजिये चरण चंडाल के जो होवे गुण परवीन”६०० साल पहेले मुस्लिम बादशाह ने ईरान में संत रविदास को बुलाये थे | ईरान के आबादान शहर में वो गए थे | आबादान के नाम से पर उन्हों ने अपनी कल्पना का शहर “बेगमपुरा” कैसा होना चाहिए उसका वर्णन अपनी वाणी में किया है | बेगमपुरा शहर को नाउ, दुःख अन्दोहु नहीं तीही ठाउ,  ना तसविस खिराजू न मालू, खउकु न खता, न तरसु जवाळु, अब मोहि वतन गई पाई, ॐ हाँ खैरी सदा मेरे भाई || कायमु, दायमु सदा पाति साही, दोम न सेम एक सौ आहि || आबादानु सदा मशहूर, उहाँ गनी बसही मामूर || तिह तिह शैल करही, जिह भावै || महरम महन न को अटकावे || कवि रविदास खलास चमारा ||जो हम सहरी सु मितु हमारा || उनका भक्ति काव्य,अब कैसे छूटे नाम रट लागी, प्रभुजी तुम चंदन हम पानी,जाकी अंग अंग बास समानी, प्रभुजी तुम घनबन हम मोरा,जैसे चितवत चन्द्र चकोरा, प्रभुजी तुम दीपक हम बाती,जाकी ज्योति बरै दिन राती, प्रभुजी तुम मोती हम धागा,जैसे सोन ही मिलत सुहागा, प्रभुजी तुम स्वामी हम दासा,ऐसी भक्ति करे रैदासा,  प्रभुजी तुम चंदन हम पानी ||

एक मुलाकात तुलसी तिवारी के साथ
 18 February 2019  
Art

देश को आजाद हुए मात्र सात वर्ष हुए थे जब उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के एक गाँव ‘कोट अंजोरपुर में मेरा जन्म हुआ (16.3. 1954) हमारा घर गंगा जी जी के तट पर था, अपने दरवाजे से हम उनकी उठती-गिरती लहरों को देखा करते थे। पिता जी ने मेरा नाम तुलसी रखा क्योंकि वे तुलसी कृत रामायण के बड़े अध्येता थे। दादाजी तीन सौ बीघे जमीन के स्वामी थे।  फिर भी हमारा परिवार तंगहाल था । कोट गंगा,सरयू और सोन नदी से घिरा है ( ऐसे बहुत से गाँव हैं)पिछली भीषण बाढ़ ने हमारे अधिकांश खेतों को रेत के ऊँचे-ऊँचे टीलों में बदल दिया था। तब से उसी प्रकार की बाढ़ की प्रतीक्षा किया करते थे गाँव के लोग । हर साल बरसात में तीनों नदियाँ विकराल होकर अपने ‘दियर‘ में बसे गाँवों को जलमग्न कर देतं । रहवासी बाढ़ उतरने के बाद फिर से सरपत की छावनी वाला घर बनाते, खरीफ की फसल के समय तो खेत पानी में होते, बाद में बोये जाते, सिचाई का कोई साधन न होने के कारण कभी कभार ही ऐसा होता कि साल भर खाने लायक अन्न पैदा हो जाय। गाँव के अघिकांश लोग काम की तलाश में किशोर वय में ही बंगाल, असम, या महाराष्ट्र के लिए निकल पड़ते। मेरे पिताजी भी बाहर ही रहते थे। अतः  जैसे-जैसे बड़ी होती गई अपने छोटे भाई बहनों की जिम्मेदारी संभालने लगी। उस समय सवर्णों में पर्दा प्रथा का बहुत जोर था। माता जी घर से बाहर निकलती नहीं थीं, बाहर की सारी व्यवस्था जो एक मुखिया करता है मुझे ही करनी होती। मेरे गाँव मे एक स्कूल था जहाँ लड़के लड़कियाँ पढ़ते थे। मैं स्कूल जाने के लिए रोती थी किन्तु जा नहीं पाती थी। रसोई के लिए जंगल से लकड़ियाँ एकत्र करके न लाती तो माँ भोजन कैसे बनाती? छोटी बहन को न संभालती तो माँ जांत  से अनाज कैसे पीसती? ऐसे ही ढेरों आवश्यक कार्य जो मुझे स्कूल नहीं पहुँचने देते थे। वैसे स्कूल के मास्टर ने मेरा नाम कक्षा एक में लिख रखा था। वर्ष में एकाध दिन किसी प्रकार स्कूल पहुँच भी जाती तो वहाँ पढ़ने वाली लडकियाँ मिल कर मुझें बहुत मारतीं, उनकी नजर में मेरा प्रति दिन स्कूल न आना उन्हें यह अधिकार देता था कि वे मुझे  पीटें ।  दो-तीन साल में मेरा नाम न जाने किस प्रकार कक्षा दो में आ गया। वैसा ही बिरला दिन था जब बड़ी माँ ने अपने छोटे बेटे द्वारा की गई गंदगी साफ करने मुझे माँ से कह कर स्कूल भेज दिया था। मैं कक्षा में बैठने का लोभ संवरण न कर सकी। उस दिन गुरूजी आम की घनी छाया में कुर्सी डाल कर हिन्दी पढ़ा रहे थे। पाठ का थोड़ा-थोड़ा अंश प्रति छात्र से पढ़वाया जा रहा था।। मेरी बारी आई तो मेरे पढ़ पाने का प्रश्न ही कहाँ से उठता था? उनके सब्र का बांध टूटा और उन्होंने पुस्तक उठा कर दूर फेंक दी । पुस्तक के फड़फड़ाते पन्नों का हा-हाकार आज भी मेरी आत्मा में शोर मचाता है कभी-कभी। छुट्टी हुई तो लड़कियों ने खबर ली। मैंं रोती हुई घर आई। (बलिका शिक्षा के लिए कार्य इसी हा-हाकार ने कराया) माँ ने मेरी गोद में मेरी छोटी बहन को डाल दिया और घर के काम जल्दी-जल्दी निबटाने लगी।मैं बसंत पंचमी को स्कूल अवश्य जाती थी चाहे जिस प्रकार हो। उस साल सरस्वती पूजा के दिन सुबह से वर्षा हो रही थी, मैंने माँ से पूजा के लिए दो पैसे लिए और स्कूल के लिए निकली, रास्ते में कनेर के पीले फूलो को तोड़ कर अपनी फ्राॅक में जमा करती करती, पानी में भीगती स्कूल पहुँची । दो पैसे की लेमन जूस का प्रसाद चढ़ाकर पीले फूलों से माँ की पूजा की । मैंने मांगा ’’ मँा मैंे रोज स्कूल आना चाहती हूँ बस और क्या मांगू?’’मैंने अपना सारा प्रसाद स्वयं ही खा लिया। इससे सबने मेरी खिल्ली उड़ाई । मैं उस दिन प्रसन्न मन घर आई ं आखिर स्कूल से आई थी।उन्हीं दिनो की बात है, एक सुबह मेरे ददेरे भाई जो कक्षा दो में पढ़ते थे, धूप में बैठ कर अपनी नई आई भाषा की पुस्तक देख रहे थे।,खुले पन्ने में सीता स्वयबर का सुन्दर सा रेखा चित्र था। बालसुलभ उत्सुकता से मैंने पुस्तक अपने हाथ में लेनी चाही, उन्होंने बेदर्दी से मेरे हाथ से पुस्तक छीन ली ’’ फाड़ देगी! तू क्या जाने किताब क्या होती है? जा बरतन मांज!’’ उनके व्यवहार से मेरा बाल मन गहरे तक आहत हो गया। मैं बड़ी देर तक हिलक-हिलक कर रोती रही। माँ को उलाहना दिया कि मुझे स्कूल क्यों नहीे जाने देती? हैैं’’माँ एक पल के लिए अपनी विवशता पर बहुत उदास हो गई  उसने भैया से एक बार पुस्तक दिखा देने के लिए बहुत निहोरा किया परन्तु वह न माना , अपना बस्ता लेकर बाहर भाग गया। माँ ने आव देखा न ताव, चुल्हे के पास पड़े कोयले को उठा लिया । ’’ आव बबुनी हम पढ़ा दी तोके!’’ वह मुझे प्यार से स्ंाभाल कर  आंगन की कच्ची दीवार के पास ले आई और कोयले से हिन्दी के अक्षर लिख दिये। ’’ लऽ ! अइसे लिखऽ!’’मैंने आँसू पोंछे और दीवार के श्यामपट पर लिखना सीखने लगी। मुझे लोक गीतों में गहरी रुचि थी। उन्हे काॅपी पर लिखने का उद्देश्य मेरे सामने था।यूंं  तो माँ भी साक्षर मात्र थी चिट्ठी पत्री बाँचने, कहीें दस्तखत आदि के उदेश्य से पिता जी ने थोड़ा पढ़ा दिया था। अटक-अटक कर रामायण आदि पढ़ लेती थी। बाद में गाँव की औरतों को सीता जी का दुःख सुनाकर रोती थी।पिता जी आसनसोल बंगाल में कहीं नौकरी करते थे। साल में एकाध बार आना जाना करते थे, किन्तु दो जगह के खर्चे के कारण दिक्कतें बरकरार थीं। किसी मित्र से उन्हे कोरबा का पता मिला  कि वहाँ रोजगार आसानी से मिल सकता है। ंवे अपने मित्र के साथ बंगाल छोड़ कर छत्तीसगढ़ आ गये। कोरबा में नये बन रहे पावर हाउस में उन्हें सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी मिल गई। कुछ महिने बाद वे हम लोगों को भी अपने पास ले आयें । तीस मई 1964 को हम लोग कोरबा पहुँचे ,देश के प्रथम प्रधान मंत्री पंडित जवाहरलाल  नेहरू का देहावशान हुए दो चार दिन ही हुए थे देश में अफरा-तफरी का माहौल था। हम अपने पहनने के कपड़े और थोड़े से बर्तन ले कर पुराने पावर हाउस के टट्टा खोली में किराये से रहने लगे। पिता जी ने मुझसे छोटी बहन एवं भाई का नाम स्कूल में लिखा दिया । मेरी तो पढ़ने की उम्र निकल गई थी नऽ ?अभी हमारी गृहस्थी जमने का आरंभ भी नहीं हुआ था कि लार्सन एन्ड टूब्रो कंपनी में कर्मचारियों की हड़ताल हो गई, जो सभी कर्मचारियों की छंटनी से समाप्त हुई। अपने गाँव-घर से दूर हम फाकामस्ती की कगार पर आ खड़े हुए। यहाँ हमारे खेत नहीं थे जिन्हें बंधक रख कर हमें तुरंत पैसा मिल जाता न जान पहचान के लोग  थे जो हमें उधार दे देते। पिताजी को उस समय दिहाड़ी मजदूर बनना पड़ा और मुझे बाल श्रमिक ।कुछ महिनों के बाद बांकी मांेगरा में कोयला खान के लिये कर्मचारियों की भर्ती का समाचार मिला । वहाँ यू. पी. बिहार के बहुत से लोग काम पर लगे हुए थे। पिता जी ने वहाँ जाकर अपनी समस्या बताई , उन्हें मदद मिल गई। हमारे जिले के जग्गू प्रसाद गोंड़ ने (जो वहाँ युनियन के नेता थे) बड़े अपनेपन से पिता जी को भर्ती करवाया। कुछ ही दिन में हम लोग कोरबा से बांकी आ गये। वह सन् पैंसठ का जुलाई का महिना था। पिताजी ने सबसे पहला काम जो किया वह था स्कूल में हमारा नाम लिखवाना। गाँव से मेरी दूसरी कक्षा की टी. सी. मंगवाई गई। आदिम जाति कल्याण विभाग प्राथमिक शाला बांकी में हम लोग पढ़ने लगे। मुझे कुछ आता नहीं था पिता जी ने स्वयं मुझे पढाना प्रारंभ किया। पढ़ने लिखने की इतने दिनों से बाधित मेरी क्षुधा जाग उठी। मैंने मन लगाया। मुझे एक बार सुन कर ही पाठ अच्छी प्रकार याद हो जाता था। बचे समय में मैं अन्य किताबें पढ़ती थी । बृहद् सुखसागर जो सभी वेद पुराणों का सार है मैंने कक्षा दो में ही पढ़ा था। । पुस्तकें खरीदने के लिए पिता जी खदान में ओवर टाइम ड्यूटी करते थे। कुछ ही समय में हमारे घर में पुस्तकों की भरमार हो गई। हम न केवल पुस्तकेंं पढ़ते थे उस पर चर्चा भी करते थे। पिता जी काम से आने के बाद स्नान ध्यान से फारिग होकर उच्च स्वर में रामचरित मानस का गायन करते, टीका करते, जिसे  घर का काम करते-करते मैं सुनती समझती। हमारे घर पढ़ने-लिखने के शौकिन और भी लोग आने-जाने लगे। स्कूली जीवन के छः वर्षों में मैंने सात उपन्यास लिखे थे जो आज अप्राप्त हैं । उस समय के अनुसार कक्षा छः पास करते-करते मेरी उम्र विवाह योग्य हो गई और मेरी शादी करके मुझे इलाहाबाद भेज दिया गया। सौभाग्य से वहाँ का माहौल पढ़ने पढ़ाने का था। मेरा स्वाध्याय निरंतर जारी रहा। किंतु स्कूली शिक्षा में व्यवधान आ गया। अपनी अधूरी पढ़ाई पूरी करने के लिए सदा छटपटाहट बनी रहती मन में । समय पाकर जब पति के साथ आकर रहने लगी तब सन्1975 में मैंने आठवीं की परीक्षा स्वाध्यायी के रूप में दी। जिसमें सभी विषयों में विशेष योग्यता प्राप्त हुई। उसी वर्ष श्रीमान् का तबादला बिलासपुर हो गया। अब जिन्दगी के फैसले मेरे पक्ष में होने लगे। आर्थिक विषमता, गृहस्थी की हजारों समस्याएं  जन्म लेते बच्चों की जिम्मेदारी , यहाँ तक मुझे स्ट्रीट लाइट में भी पढ़ना पड़ा किन्तु नतीजे मेरे पक्ष में आते रहे सन्1977 में मैट्रिक , सन्1980 में स्नातक और सन्1982 को स्नातकोत्तर की परीक्षा पास कर ली । उसी वर्ष शिक्षक चयन परीक्षा पास कर के शिक्षिका बन गई । इस बीच मेरा कहानी लिखना और समाचार प़त्रों में छपना लगातार जारी था। सन् 2008 में पहली पुस्तक पिंजरा के प्रकाशन से मेरा विधिवत साहित्यिक जीवन प्रारंभ हुआ। इन दस वर्षों में ग्यारह कहानी संग्रह, एक वृहद् उपन्यास,चार यात्रा संस्मरण, और चैदह बालोपयोगी पुस्तकें प्रकाशित र्हुइं ( सम्मानों की सूची लेखिका परिचय में देखें )।पुस्तकों के प्रकाशन, विक्रय, प्रचार प्रसार आदि की सुविधा के लिए मैंने  2012 में अपने कनिष्ठ पुत्र विवेक तिवारी के साथ मिलकर श्री अक्षय पब्लिकेशन की स्थापना की। जिसमें लगातार क्षेत्र के साहित्यकारों की पुस्तकें छप रहीं हैंं।आज मैं अपने को संसार की सबसे सम्पन्न महिला समझती हूँ क्योंकि मैं जितना पढ़ सकती हूँ उससे अधिक पुस्तकें हैं मेरे पास, जितना लिख सकती हूँ उससे अधिक विचार हैं, जितना लिखा है उससे बहुत अघिक मुझे पढ़ने वाले हैैं।  

सर्वांगीण विकास की कुंजी-आत्मविश्लेषण
 12 February 2019  
Art

आज अनायास ही बैठे बैठे मैंने अपने बचपन को दस्तक दी और मन में खुशियों की लहर दौड़ गई । लगा बस वहीं रहूँ फिर एक बार जी भरकर बचपन जी लूँ । हर बच्चे के बुनियादी दिन, बचपन को सहलाकर नींव मजबूत करने का ,एक ठोस आधारशिला बनाने का माता-पिता का भरसक प्रयास ।हमारी किताबें पढ़ने को आदत बनाने का ,हमारी हर आदत को अच्छी आदत बनाने का वो अनूठा तरीका याद आया ।मुझे बचपन में रंग बिरंगी तितलियाँ बहुत आकर्षित करती थी । अतः इसी को आधार बनाकर घर में मेरी उपस्थिति में बातें होती थीं कि अगर किताब को ध्यान से पढ़ा जाए और उसके हर शब्द का गूढ़ अर्थ समझ में आ जाए तो रंग बिरंगी तितलियाँ एक नहीं वरन कई उड़ने लगती हैं और तब तक आसपास रहती हैं जब तक आप चाहें और ऐसा कईयों के साथ हो भी चुका है और बस यही चाह ,इसी खुशी के क्षण को पाने की तीव्र लालसा मुझे किताबें पढ़ने के लिए प्रेरित करती रही । आज भी याद है कैसे तैराकी के लिए प्रेरित करने के लिए हमें स्वीमिंग पूल के पास के ही गार्डन में खेलने के लिए ले जाया जाता था और वहां से हम घंटों तैराकों को देखते रहते थे और एक दिन कब हम तैराकी करने लग गए पता ही नहीं चला ।कहने का अर्थ कभी भी किसी कार्य को करवाने के लिए आदेश नहीं दिया गया कि यह करो अथवा यह न करो। बस सही दिशा दी गई।और हम उसे पकड़कर अनायास ही आगे बढ़ने लगे । माहौल बहुत ही उत्साहवर्धक, सहज,सकारात्मक व खुशी प्रदान करने वाला होता था।ऐसेही और भी कई उदाहरण हैं जैसे भूगोल और देश दुनिया की खबरों से अवगत कराने हेतु घर में विभिन्न खेलोंउनसे जुड़े खिलाड़ियों व उनके देशों के बारे मे बातें होती और यह सब हमें उनके बारे में और भी अधिक जानने की लालसा पैदा करता । गृहकार्य करते समय बताया जाता देख कर कर सकते हो लेकिन जब अध्यापकगण देखेंगे तो समझेंगे कि तुम्हें आता है और यह सिर्फ़ तुम जानते हो कि तुम्हें नहीं आता यानिकी तुम स्वयं को धोखा दे रहे हो वही अगर पढ़कर फिर  देखे बिना लिखोगे तो तुम स्वयं का आकलन भी कर पाओगे कि तुम्हें कितना समय लगता है किसी भी अध्याय को तैयार करने मेंऔर वर्ष के आरंभ से ही तुम किसी भी परीक्षा के लिए सदैव तैयार रहोगे ।यानि कि  हमारा सर्वांगीण विकास करने में घर के सभी बड़े तत्पर रहते थे ।जिस घर में  सकारात्मकता के दीये सदैव ही जलते हो और सदैव ही दिमाग के वक्र बढ़ते हो वहां भला   खुशियाँ कैसे नहीं खेलेगी ।पर इन सबके साथ ही विचारों में तटस्थता, सही गलत का आत्मविश्लेषण करने की क्षमता का विकास होना भी अतिआवश्यक है क्योंकि भले ही हमारे बचपन में हमें सभी  कुछ प्यार और सहजता से सिखाया गया हो लेकिन सामाजिक व्यवहार में अव्वल होना भी उतना ही जरूरी है । हर बात का आकलन करते आना अतिआवश्यक है नहीं तो भटकावकी स्थिति उत्पन्न होने में एक क्षण भी नहीं लगता है ।आत्मविश्वास की प्रबलता ही हमारे मार्ग की रोशनी बन सकती है और यह सब घर की चारदीवारी में बंद रहकर नहीं वरन सामाजिक प्राणी बनकर ही हासिल हो सकता है ।अथिकतर देखा गया है अभिभावक बच्चे का carrier बनाने पर ही ज्यादा जोर देते हैं लेकिन इस सबके बीच बहुत ही जरूरी बात जिसके बिना सर्वांगीण विकास अधूरा है भूल जाते हैं । संतान को एक ऐसा सामाजिक प्राणी बनाने की चाह जो अच्छे पद के साथ साथ आत्म सम्मान भी अर्जित करे। जो हमेशा लोगों की नज़रों में उठा हुआ हो जिसे देखकर लोगों के चेहरो पर सलवटें नहीं वरन मुस्कराहट आए क्योंकि यही मुस्कराहट उसे आजीवन खुश रख सकती है और वास्तविकता में उसे  सफल इंसान बना सकती है ।कई बार हम देखते व सुनते  हैं कि अगर कोई व्यक्ति शिक्षक के परिवार से  या किसी बड़े ओहदे  के व्यक्ति से संबंधित होता है तो उसके प्रति लोगों के मन में डर का भाव आ जाता है कि अगर हमने उसेयह नहीं दिया या उसके लिए यह नहीं किया तो स्वयं मुसीबत में आ सकते हैं जो कि आत्मविश्वास की कमी का ही परिचायक है या फिर अगर वो साधारण पृष्ठभूमि से संबंधित है तो उसके प्रति मनचाहा व्यवहार हमारे दूसरों पर हावी होने की प्रवृत्ति का परिचायक है और दोनों ही गलत है ।यह सब बच्चे बड़े होते हुए अपने आसपास के वातावरण से ही सीखते हैं और इसे अपना आचरण बना लेते हैं फिर इन्हें सम्मान भी परिस्थिति के अनुसार ही मिल पाता है यानिकी जीवन भर तनातनी।भय ही है जो व्यक्ति को ग़लत कार्य करने के लिए प्रेरित करता है ।  भयभीत इंसान अपने भय पर विजय प्राप्त करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं । लेकिन भय पर विजय कभी प्राप्त नहीं कर सकते ।क्योंकि इसके लिए उसने गलत मार्ग का चयन किया हुआ होता है।भय पर विजय सिर्फ भय के   विरूद्ध जाकर सही गलत का आकलन करके ही मिल सकती है और इसी में समाज का उद्धार भी नीहित है। कम शब्दों में प्रभावशाली ,सकारात्मक बात कहना ,किसी के बहकावे में न आकर आत्मविश्लेषण कर उचित निर्णय लेना समाज में व्यक्ति के ओहदे को और भी बड़ा कर देता है।ReplyForward

यूँ ही चलते-चलते....
 29 January 2019  
Art

यूँ ही चलते-चलते....विधा-आलेखदिनांक- -28/1/2019शीर्षक- -" द्वंद्व "भारतीय समाज इस समय पथभ्रष्ट  है। वह निर्णय ही नहीं  कर पा रहा है कि रास्ता कौन सा सही है। जैसे एक कालिमा की चादर ओढ़े हुए  हैं। सबके अंदर कुछ खदबदा रहा है और वह बाहर निकलने का रास्ता ढूँढ रहा है। सारे आरोप-प्रत्यारोप इसी की देन है। समाज में  संघर्ष हमेशा प्रभुत्व की होती है। आदमी की आदिम लालसा दूसरों पर हुकूमत करने की ही है। आज भारत जातीय संघर्ष में फंसा हुआ है, फंसा हुआ  कहना इसलिए है कि चंद लोगों ने इसे ही अपना आधार बना लिया है और सपने बेचकर सारी जनता को दिग्भ्रमित कर खुद राज कर रहे हैं। जिनके बूते राज कर रहें हैं,  वह उनका वोट बैंक है। यह वह मानते हैं । वह न छिटकने पाए तो झूठी या वाकई में घटित इक्का-दुक्का घटनाओं को हवा देते रहते हैं ।एक सौ पैंतीस करोड़ की जनसंख्या है हमारी। क्या कुछ घटनाएँ सारे समाज का आईना हो सकती है ? एक रोहित वैमूला की आत्महत्या को दलितों पर अत्याचार, मानसिक शोषण के  नाम पर कितना हो-हल्ला मचा था। कितने आरोप लगाए थे तथाकथित बुद्धिजीवियों ने.... अत्याचार हो रहा है दलितों पर, शोषण हो रहा है। बाद में  सच्चाई क्या निकलती है कि वह तो दलित ही नहीं  था, क्रिश्चियन था। या दलित थे उसके पूर्वज, और उन्होंने अपना धर्म बदल लिया था। और जब धर्म परिवर्तन कर ही लिया था तो वह दलित  कैसे  था ?यह तो सीधे- सीधे क्रिश्चियन धर्म पर आरोप लगना चाहिए था कि वह धर्म बदल कर आए हुए  लोगों के साथ भेदभाव करती है। क्योंकि वह क्रिश्चियन था तो दलित हो ही कैसे सकता है। जाति में  बँटने का आरोप  तो सिर्फ हिंदू धर्म पर ही लग सकता है।बाकी धर्म तो कहते हैं कि वह जातियों में  नहीं  बँटे हुए  हैं । तो क्या यह दावा झूठा है ?अगर नही तो.....क्या धर्म परिवर्तन कराकर बनाए हुए क्रिश्चियन मूलतः वही रहते है जो वे थे। सिर्फ नाम बदल गये उनके वे तिमोथी, पीटर या श्याम से सैमुअल हो गये। वे पहले हिंदू दलित थे , अब क्रिश्चियन दलित हो गये है। वे पहले गोंड़ आदिवासी थे, अब क्रिश्चियन आदिवासी हैं। सिर्फ  सरनेम बदला और कुछ  नहीं  ?यह आलेख ही एक सच्ची घटना पर आधारित है। यह मन को आहत करने वाली घटना मेरी एक सखी कीआंखों देखी आपबीती है। उन्होंने बताया कि उनके पड़ोस में  एक क्रिश्चियन परिवार रहता था और उनसे हमेशा चर्च जाने का आग्रह करता रहता था। एक रविवार उन्होंने हामी भर दी चर्च जाने की। वे उस परिवार के साथ गईं चर्च। बहुत बड़ा, बहुत सुंदर चर्च था। जीसस की सलीब पर टंगी मूर्ति के सामनेआधे हाल में  तमाम बेंच-चेयर लगी हुई  थी। और आधे हाल में लंबी- चौड़ी दरी बिछी हुई थी।प्रेयर तक आधी से ज्यादा चेयर खाली थीं और दरी पर गांव देहात से आए लोग बैठाए जा रहे थे। सखी को यह व्यवस्था बहुत अजीब लगा तो उन्होंने पूछ ही लिया कि जब तमाम चेयर खाली हैं तो क्यों लोगों को दरी पर बैठाया जा रहा है। जो जवाब मिला तो उनके होश ही उड़ गये। जवाब यह था कि ये च. ..र हैं  और अभी-अभी क्रिश्चियन बने है। वे वहीं  ठीक हैं । सखी अवाक् रह गईं और उनसे कुछ  कहते ही नहीं  बना। वे वापस आईं तो बहुत खिन्न थी। उनके विश्वास को बहुत बड़ा धक्का लग चुका था। इसी खिन्नता में  इसकी चर्चा उन्होंने  मुझसे किया कि क्या मिला उन्हें,  जो धर्म भी बदल लिए पर आज भी हैं तो वही। यह स्वीकार करना पड़ेगा कि कभी समाज में अस्पृश्यता थी, भेदभाव था। पर अब कहाँ है ?इतना सुधार तो आ ही चुका है भारतीय  समाज में कि कोई  दुकान,कोई होटल,कोई  सर्व सुलभ साधन, यातायात,  सड़कें किसी से उसकी जाति नहीं  पूछती हैं। सरकारी सुविधाओं में  सभी बराबर के हकदार हैं। आज सभी की जातियाँ उनकी अपनी पहचान में  तब्दील हो चुकीं हैं ।ऊँच-नीच के पायदान से मुक्त हैं। क्योंकि सरकारी नीतियों और सुविधाओं में सभी बराबर के हकदार माने जाते हैं ।फिर कौन है जो जबरदस्ती.... वर्ग-विभेद की बात करता है और उसकी बिशात पर राजनीति कर सिर्फ अपनी रोटियाँ सेंकता है। सावधान रहने की जरूरत उन नेताओं से है। समाज तो वाकई  समरस है। क्योंकि सरकार  किसी की व्यक्तिगत धारणा पर प्रहार नहीं कर सकती है ?अपनी सोच, समझ, कोई भी अपने घर तक कायम रख सकता है। पर समाज में  जब वह निकलता है तो वहाँ  उसकी अपनी धारणा का कोई  महत्व नहीं होता है।वहां वह समाज का एक अंग है और उसी के अनुरूप व्यवहार  करता है। और यह व्यवस्था पूरे देश में  समग्रता से लागू है। और इसका पालन नहीं  करना दंडनीय अपराध माना गया है।तब यह शिकायत कितनी जायज या नाजायज है, इसका निर्णय तो प्रबुद्ध जन कर ही सकते हैं ।यह अर्थतंत्र का युग है। सिर्फ  समाजिक तौर पर गरीबीऔर अमीरी का वर्ग विभेद हैं। जिसकी जेब में  पैसा है , वह किसी भी जाति का हो, सलामी उसे ही मिलती है।यह वह देश हो चुका है जो अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर देश द्रोही नारे लगवा सकता है, पर्चे बँटवा सकता है। किसी को भी सार्वजनिक मंच से धमका सकता है।और यह काम आमजन नहीं करता है। ये जन-नायक करते हैं।सावधान रहने की जरूरत इनसे है। ये सामाजिक प्राणी नहीं  है। इनके  कार्य इन्हें अपराधी की श्रेणी में खड़े करते हैं। इनका अनुकरण तो हरगिज नहीं  करनाचाहिए ।अपने देश, अपने समाज, अपने धर्म पर अपनी आस्था को मजबूत रखने का समय है। क्योंकि विध्वंसक शक्तियाँ तो चाहती ही हैं  कि हम आपस में ही लड़ -मरें।और हमें  प्रण करना है कि हम अपने समाज के लिए, अपने देश के लिए  सदैव एकजुट ही रहेंगे ।क्रमशः ...*समिश्रा *स्वरचित कहानियाँ द्वारा साधना मिश्रा समिश्रा कापी राइट कानून के तहत सर्वाधिकार सुरक्षित

सैनिक
 10 January 2019  
Art

सैनिक कौन है?राष्ट्र के लिए सैनिक एक नि:स्वार्थ सेवा है तो राष्ट्र शत्रुओ के लिए वेदना।राष्ट्र के लिए सैनिक त्याग और बलिदान का पर्यायवाची है तो राष्ट्र शत्रुओ के लिए दया और करुणा का विलोम।     किन्तु यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है 'क्या सरहद पर तैनात जवान ही सैनिक है?'यदि हां ,तो यह उत्तर सैनिक शब्द्  की व्यापकता को प्रदर्शित नही करता।क्या सैनिक इतना सिमित शब्द है कि इसके अन्तर्गत केवल जवान ही आते है?बेशक बॉर्डर पर देश के दुश्मनो से लोहा लेते हमारे जवान सैनिक शब्द के बहुत से हिस्से को पूर्ण करते है किन्तु सैनिक शब्द की सम्पूर्णता मे उन सभी योद्धाओ का भी योगदान निहित है जो देश के भीतरी दुश्मनो का संहार कर राष्ट्र को उन्नति के पथ पर अग्रसर करते है।        यदि अशिक्षा देश की शत्रु है तो शिक्षा की ज्वाला जलाने वाला हर एक शिक्षक सैनिक है।यदि अस्वच्छता देश के दुश्मनो में एक है तो सड़क ,नाले साफ़ करने वाला हर एक इंसान सैनिक है।             यदि भ्रष्टाचार देश का शत्रु है तो ईमानदारी से अपने कर्तब्य को निभाने वाला हर एक इंसान सैनिक है।देश की क्षुधा मिटाने वाला अन्नदाता सैनिक है,हर एक चिकित्सक सैनिक है।सैनिक एक सिमित शब्द् नही बल्कि व्यापकता की परिभाषा से परे देशभक्ति की वो आधारशिला है जो निर्मित होती है राष्ट्र के प्रति समर्पण भाव से।     

अलविदा कादरखान !!
 2 January 2019  
Art

फ़िल्म कालिया में अमिताभ बच्चन का यह संवाद शायद सब को याद होगा  ?" लाइन वहीं से शुरु होती हे, जहाँ पे...."इस संवाद को लिखने वाले लेखक का नाम था कादरखान ।आज उनका  देहांत हो गया ।  कादरखान इंजीनयर थे । ग़रीबी में  एक बहोत ही बदनाम गली में रहते थे ।रंगमंचमे उनका interst था। महेनत करके बॉलीवुड में आ गए ।पहले मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा की फिल्मों में संवाद लिखने का उनको मौका मिला और वह छा गए  !बादमे एक्टिंग में भी उन्होंने नाम कमाया ।उनकी कॉमेडी बहुत ही लाजवाब थी ।गंभीर चहेरा रख कर हँसाने वाले संवाद को बोलने में वह महारथी थे । अरुणा ईरानी के साथ उनकी अच्छी जोड़ी जम गई थी । अमिताभ, गोविंदा को famous करने में उनके संवाद का भी बड़ा हाथ था ।शक्तिकपुर के साथ उनकी जोड़ी अच्छी बन गयी थी । पर कभी कभी दृअर्थी संवादों के कारण वह vulgar हो जाती थी ।कादरखान को उनकी काबलियत के हिसाब से जो सन्मान मिलना चाहिए वह कभी नही मिला !"दुःख  अपना साथी है । दुख को अपनाले , तक़दीर तेरे कदमों में होगी, और तू मूकद्दर का सिक्न्दर हो गा"

अंतिम इक्छा ..

अंतिम -इक्छारमिया झोपडी के कोने में लेटी है तेज ज्वर से बदन तपा जा रहा है ।एक मात्र पुत्र रघु माई की हालत पर रोये या काम पर जाए समझ नहीं पा रहा ।घर में खाने के लिए कुछ भी नहीं है।पानी पी कर रमिया और रघु ने कल का दिन बिताया है ।माई आज भी नहीं जाने देगी तो सेठ किसी दूसरे लड़के को काम पर रख लेगा सोच कर रघु परेशान है ।रघु मात्र दस साल का है पर शरीर से कमजोर रघु की व्य मात्र सात या आठ साल से ज्यादा नही लगती ।घर की जिम्मेवारी और गरीबी ने रघु को समय से पहले ही बुजुर्ग बना दिया है । कल गया था वैध जी से माई के लिए दवा लेने पर खाली पेट दवा क्या असर करेगी ।माई थोड़ी देर को ही चले जाने दे तो सेठ से पेटदर्द का बहाना बना कर आधे दिन में ही वापस आजायेगा ।पूरे दिन के 2 रुपये मिलते है ।एक रूपए में खाने को वानिया की दुकान से चावल ले आएगा पडोस की काकी से थोड़ी सी दाल मिल जाएगी तो माई को खिचढ़ी बना देगा । वैध जी भले मानुस हैं दवा का पैसा नही लिए पर वानिया तो पैर भी नही रखने देगा दुकान पर ।रघु यहां आ!  रमिया की कमजोर आवाज से रघु की विचार -तंद्रा टूटती है । रमिया रघु को अपने पास लिटा लेती हैं ।माँ के पाश में सिमट कर रघु दुधमुहे बालक की तरह माँ के वक्ष से लिपट जाता है ।भूख' प्यास सब एक पल में खत्म हो जाती है कुछ रह जाता है तो बस माँ की गोद का अलौकिक सुख । रघु को अपने वक्ष में समेटे रमिया अपने पुराने दिनों की स्मृति में खो जाती है।पंद्रह वर्ष की अवोध बालिका थी जब व्याह कर रघु के बापू के साथ इस गांव आयी। हरि की वय भी कोई सत्रह वर्ष की रही होगी । घर मे परिवार के नाम पर एक माँ थी जिन्हें कम दिखाई देता था ' हरि के बापू कम उम्र में भगवान को प्यारे हो गए ।आस -पास के गांव में पंडिताई का छोटा- मोटा काम हरि करता था और थोड़ी सी जमीन थी गुजरे के लिए ।एक दिन गांव में बाढ़आयी थी दूसरे गांव से श्राद्ध का निमंत्रण था बहुत मना किया था रमिया ने पता नही क्यों जी कमजोर हो रहा था पर हरि नही माना वापस हरि का पार्थिव शरीर आया ।बाढ़ अपने साथ रमिया की खुशियां ले डूबी थी । रघु तीन माह पेट में था बेचारा अपने पिता का मुख भी नही देख सका ।हरि के जीते जी उसने कभी घर के बाहर कदम भी नही रखा पर अब दो - दो पेट का सवाल था ।गरीब थी तो क्या थी तो ब्राह्मण की बहू कोई ऐसा - वैसा काम भी नही कर सकती थी । बड़ी हवेली की अम्मा ने उसको सहारा दिया ।घर में पंडित की सहायता के लिए रमिया जाने लगी ।दिन  कट रहे थे तभी हरि की माँ की मृत्यु साँप के काटने से हो गयी ।रमिया का एक मात्र सहारा  भी विधाता  ने छीन लिया । जो थोड़ी सी जमीन बची थी वो हरि और उसकी मां के क्रियाकर्म में लग चुकी थी ।रमिया का अब बड़ी अम्मा के सिबा कोई सहारा न बचा ।बड़की अम्मा का रुतवा था हवेली में जब तक तक रमिया को कोई परेशानी नही रही । बड़की अम्मा अपनी उतरी सफेद धोती भी रमिया को दे देती थी ।जिसे पहन कर रमिया खुद को बड़की अम्मा के जैसे महसूस कर लेती थी ।फिर बड़की अम्मा ने भी कुछ साल पहले बिस्तर पकड़ लिया और रमिया की पूंछ हवेली में कम होने लगी । दमा की बीमारी के बाद बड़की अम्मा की बहू ने रमिया को हवेली से निकाल दिया ।छूत की बीमारी थी खाने - पीने से फैलती है फिर वो वहाँ काम भी कैसे कर सकती थी ।तब से वो केवल कभी ' कभी बड़की अम्मा के हाल पूछने ही हवेली  जाती है ।बड़ी साध इक्छा है मन मे की बड़की अम्मा की उतरी सफेद धोती मिल जाये पर बहु से कहने की  हिम्मत नही होती ।।रघु ' रमिया वर्तमान में लौट आती है ।बेटा हमरी एक साध हैं मन में जब हम सरग जाए तो सफेद धोती में जाए।ई हमरी अंतिम  इक्छा है। । रघु माँ की बात सुनकर नींद से जगता है ।माई ' अंतिम इक्छा का होती है।अंतिम इक्छा का मतलब जो मरने वाला हो उसकी आख़िरी इक्छा  ।रघु जब से पैदा हुआ था तब से इक्छा का मतलब भी नही पता था तो अंतिम इक्छा से वो कैसे परिचित होता पर माँ कह रही है तो होता  होगा कुछ। अभी तो बस कुछ खाने को मिल जाए यही उसकी इक्छा  है । बेचैनी से करवट लेता है ।आधा दिन हो गया अब तो सेठ भी काम नही देगा ।।रघु ! ओ रघु कहाँ हो ? हवेली से बामनो को बुलावा आया है जल्दी करो ग्यारह ब्राह्मण चाहिए ।बड़की अम्मा का श्राद्ध है जल्दी करो कोई और मिल गया तो समझो कुछ नही मिलेगा । रघु जल्दी से अपने दोस्त  छेनू के साथ हवेली चल देता है । अब  माई के लिये भी खाना मिल जाएगा । हवन-  पूजन के बाद ब्राह्मण भोज होता है साथ में सबको दान - दक्षिना भी मिलेगा सोच कर ही रघु खुश है । भोज के बाद  की दक्षिणा सामने रखी है ।सफेद धोती भी है शायद रघु साफ देख नही पा रहा । भोज समाप्त हो चुका है रघु खुश  है जमीन पर पैर नही पड़ रहे ।दो दिन बैठ कर खाएं इतना मिला है ।।माई की धोती भी हैरमिया रघु की रास्ता देखते - देखते इहलोक से परलोक को प्राप्त हो चुकी है ।रघु माई की मृत देह से लिपट कर विलाप कर रहा है ।दक्षिणा में जो भी मिला था उससे देह संस्कार करने के लायक पैसा नही है ।बहुत दया करने पर एक पंडित मिला है जो कम में काम कर देगा पर कुछ तो देना ही होगा। रघु का बहुत मन है माई को सफेद धोती पहना कर विदा करने का पर  पण्डित जी को क्या देगा फिर ?रमिया का अंतिम संस्कार हो चुका है और ब्राह्मण देवता सफेद धोती की दक्षिणा पा कर भी   अतृप्त रघु की तरफ आशा भरी नजरों से देख रहे हैं!! सुप्रिया सिंह!

"शरीर में तैंतीस देबताहैं।"
 22 November 2018  

शरीर मन्दिर में मुख्य देबता आत्माराम है।स्तूल पंच भूत_ अग्नि, वायु जल, आकाश पृथ्वी यह स्थूल पंच भूत में शरीर गढा है। सूक्ष्म पंच महा भूत मुलाधार-पृथ्वी तत्व स्वाधिष्ठान जल तत्व , मणिपुर- अग्नि तत्व, अनाहत_ वायु तत्व , विशुद्ध - आकाश तत्व- ये दस देबताऍ है।शरीर में दस वायु है। _मुख्य वायु पांच _ प्राण , अपना, ब्यान, उदान, समानगौण वायु - नाग, कुम॔ , देबदत्त, धनंजय, कृकलये बीस होगए।दस इन्द्रियाँ है। -मुख्य दो आँख, दो कान , जीभ और त्वचा। नाक ज्ञानेन्द्रिय यह पांच है।कम॔न्द्रीय- पांच - दो हाथ में इन्द्र दोनों पाँव में- बिष्णु,मल द्वार, उपस्त बाक् शक्ति हो गये 30।31_ मन_ राम,32- बुद्धि _ सरस्वती,33- अहंकार _ शिवआत्मा राम इस सभीको सजाके अन्दर में बैठी हैइसलिए शरीर को देवालय बोला जाता है।शरीर में दस वायु है।हमारा शरीर एक मंदिर है। इस शरीर में 33 गोटिदेबता है। यों सात समुन्दर, सात पर्वत सात ॠषियों सब के सब बैठे हैं।हमारा ये दोनों कान, दाहिने गौतम और बाएँ भरद्वाज ॠषि बैठे हैं। ये दोनों ऑखे दाहिने बिश्वमित्र बाऍ जमदाग्नी है। ये दोनों नाक के छिद्र दाहिने वशिष्ठ बाऍ कश्यप हुऍ है। जो ब्रह्म को कथा सुनाते हैं और खाते हैं। जिस प्रकार कथा जिह्वा से होती है भोजन भी जिह्वा से होती है और संस्कृत में जो खाता है उसे अत्रि भी कहते हैं। इस प्रकार जो बिश्वासकरता है, वह सब भोजनो का करने का अधिकार हो जाता है। सब भोग उसे मिलते हैं।