Home
Quotes New

Audio

Forum

Read

Contest


Write

Write blog

Log In
CATEGORIES
"बदलती सोच"
 23 May 2022  
Art

कोहलापुर के हेरवाड़ गाँव में विधवा सम्बन्धी प्रथाओं पर प्रतिबन्ध |गाँव में अब न चूड़ियाँ टूटेंगी और न पूछा जायेगा सिन्दूर |पंचायत में प्रस्ताव पारित | ग्रामीणों से माँगा समर्थन |उजाला नवा - चार का पर आधारित मेरा लेख |    सोचिये इधर तो पति की अर्थी सजी है और उधर एक पत्नि को मंगलसूत्र उतारने, चूड़ियाँ तोड़ने और मांग का सिन्दूर पोंछने के लिये मजबूर किया जाता है | पति की मौत के बाद, पत्नि का सर्वस्व ऐसे ही लुट जाता है | उस पर यह हृदयविदारक | यह सब रोंगटे खड़े करने वाला दृश्य होता हैं | तभी तो सरपंच जी का हृदय पिघला और उनके इस कदम ने अहिल्याबाई होल्कर और राजा राम मोहन राय जी की याद दिला दी| अहिल्याबाई होल्कर ने जिन विधवाओं की कोई संतान नहीं होती थी, उन्हें विधवा होने के बाद, बच्चा गोद लेने का अधिकार दिलाया, ताक़ि उसे अपने पति की संपत्ति पर अधिकार मिल सके | अहिल्याबाई होल्कर ने अपने पति और ससुर की मौत के बाद, यह साबित किया की विधवायें कमज़ोर नहीं होती, वे चाहें तो अपने - आप को एक स्तम्भ के रूप में खड़ा कर सकती हैं और उसका जीवंत उदाहरण वह स्वयं है |राजा राम मोहन राय जी ने 1814 में "आत्मीय सभा" बनाई | जो भी समाज में कुरीतियाँ थी जैसे बाल - विवाह, सती - प्रथा, जातिवाद और विधवा पुनर्विवाह के लिए कदम उठाये और उन्हीं के लिये वो जाने जाते हैं | कोई भी नई पहल करने के लिये, उसका सेहरा बाँधना पड़ता है, तभी कुप्रथाओं का अंत होता है | सती - प्रथा का अंत और विधवा पुनर्विवाह का श्रेय राजा राम मोहन राय जी को जाता है, नहीं तो उससे पहले, पत्नि को पति के साथ ज़िंदा जलाने का चलन था और उसे धर्म से जोड़ दिया जाता था |कल्पना कीजिये कि क्या दारुनीय  स्तिथि होती होगी, जब ज़िंदा पत्नि को उसकी गोद में पति के शव को रखकर जला दिया जाये, कल्पना से परे है | आज जब पति की हृदयगति रुकने से मौत होने और एक पत्नि को जबरन चूड़ियाँ तोड़ने, मंगलसूत्र हटाने और मांग का सिन्दूर पोंछने पर ही हमारें दिल दहल जाते हैं, जैसा कि हेरवाड़ गाँव के सरपंच के साथ हुआ और उन्होंने विधवाओं के पक्ष में कदम उठाया तो यह तो अकल्पनीय ही था | समाज में जो कुप्रथायें चल रहीं हैं, उनका अंत करने के लिये, साहसी कदम उठाने की जरूरत पड़ती है, जो कि हमारें माननीय सरपंच महोदय जी ने किया, जो की सराहनीय है | स्त्रियों के उत्थान के लिये जरूरत है कुछ और राजा राम मोहन राय और अहिल्याबाई होल्कर जैसे व्यक्तित्वों की, जो परिणाम की परवाह न करते हुए, ऐसे साहसी कदम समय - समय पर उठाते रहें |मेरा तो यह मानना है कि हमें यह पूरे देश में ही लागू कर देना चाहिये | यह निर्णय स्वयं उस स्त्री का होना चाहिए कि वह अपने मृत पति के नाम का सिन्दूर लगाना, मंगलसूत्र पहनना और चूड़ियाँ पहनना पसंद करती हैं या फिर पुनर्विवाह | यह उसकी अपनी ज़िन्दगी हैं | इसका निर्णय भी एक पुरुष की भांति उसी का होना चाहिये | जैसे की एक पुरुष के लिए कहावत है कि वह अकेला गृहस्थी का बोझ और बच्चों का दायित्व नहीं उठा सकता तो फिर एक विधवा की लाचारी क्यों ?उसे भी "शकुन" हमें स्वतंत्रता देनी होगी - अपने जज्बातों को जीने की ||- शकुंतला अग्रवाल, जयपुर

क्या अखंड भारत संभव है ?
 5 May 2022  

आपने और हमने अक्सर हिंदू संगठनों द्वारा अखंड भारत की बात सुनी है। आज हम अखंड भारत पर विस्तार से बात कर इसे समझने की कोशिश करेंगे। अखंड भारत यानी अफगानिस्तान, पाकिस्तान, म्यांमार, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान तक सिर्फ एक देश और एक सरकार का होना है। अखंड भारत को हिंदू धर्म के लोग हिंदू राजाओं के शासन काल का स्वर्णिम युग कहते हैं। जब हम अखंड भारत की बात सुनते हैं और इतिहास के पन्ने पलटते हैं तो हिंदू संगठनों द्वारा कही गई अखंड भारत की बात इतिहास के पन्नों के आधार पर एकदम अलग नजर आती है।आप सोच रहे होंगे कि अखंड भारत पर सिर्फ एक हिंदू राजा ने राज किया होगा; मगर ऐसा नहीं है। अखंड भारत कभी था ही नहीं। हां कह सकते हैं कि अशोक ने अपने शासनकाल में बतौर राजा भारत के सबसे अधिक भूभाग पर शासन किया। इसके बाद से जितने भी राजा हुए चाहे महाराणा प्रताप सिंह हो या फिर छत्रपति शिवाजी, मगर कोई भी हिंदू राजा अशोक से अधिक भू-भाग पर शासन नहीं कर सका। भारत का इतिहास बताता है कि हिंदू राजा कभी भी आपस में मिल कर नहीं रहे। इन राजाओं का आपस में मिलकर नहीं रहने के कारण ही भारत में मुगलों सहित अंग्रेजों का शासन हुआ और भारत ने सदियों तक गुलामी की बेड़ियां पहनी।अगर एक देश के रूप में देखा जाए तो भारत कभी भी एक देश नहीं था बल्कि अलग-अलग खंडों में बांटा अलग-अलग राजाओं का राज्य रहा है। ऐसे में जो लोग अखंड भारत की बात करते हैं या तो शायद उन्होंने भारत का इतिहास नहीं पढ़ा है या फिर वह मानसिक तौर पर बहुत ही कमजोर है। चलिए अब वर्तमान की बात करते हैं क्या वर्तमान में अखंड भारत की कल्पना करना सही है या फिर गलत ?आज पाकिस्तान हो या फिर अफगानिस्तान या बांग्लादेश या म्यांमार सभी देश अलग अलग राष्ट्र के तौर पर समस्त विश्व में अपनी पहचान बनाए बैठे हैं। ऐसे में मुझे तो समझ नहीं आता कि आप इन देशों को कैसे मनाएंगे और कैसे इन्हें अखंड भारत की कल्पना बताएंगे। आप स्वयं सोच कर देखिए क्या अखंड भारत की कल्पना करना वर्तमान में सही है ? मुझे लगता है कि वर्तमान में अखंड भारत की कल्पना करना मूर्खता भरा सपना है। क्या भारत अखंड भारत के लिए पाकिस्तान, नेपाल, भूटान, बांग्लादेश, श्रीलंका, म्यांमार जैसे देशों पर आक्रमण करेगा ? क्या हिंदू संगठनों की कल्पना अखंड भारत को यह सभी देश स्वीकार कर पाएंगे ?हम मान लेते हैं कि हिंदू संगठनों की कल्पना अखंड भारत को सभी देशों ने स्वीकार कर लिया, मगर उसके बाद अखंड भारत की जनसंख्या में हिंदू, मुस्लिम लगभग बराबरी पर आ जाएंगे। क्या उसके बाद हिंदू धर्म खतरे में नहीं रहेगा ? क्योंकि वर्तमान में हिंदू संगठनों द्वारा भारत के हिंदुओं में भारत में निवास कर रहे 30 करोड़ मुसलमानों का डर बैठाया जा रहा है। अभी भारत में लगभग 100 करोड़ हिंदुओं की जनसंख्या है। अगर अखंड भारत बनता है तो फिर हिंदू और मुस्लिम जनसंख्या में ज्यादा अंतर नहीं होगा। अखंड भारत बनने के बाद फिर हिंदू संगठन मुसलमानों को कौन से देश में भेजेंगे ?अगर अखंड भारत बन जाता है तो फिर उसे हिंदू राष्ट्र कैसे घोषित किया जाएगा ? अखंड भारत में मुसलमानों की जनसंख्या इतनी अधिक होगी की वह हिंदू राष्ट्र के खिलाफ आवाज उठाएगी। क्या हिंदू संगठनों को अखंड भारत के साथ-साथ हिंदू राष्ट्र भी चाहिए ? जब वर्तमान में 30 करोड़ मुसलमानों का 100 करोड़ हिंदू के ऊपर डर बैठाया जाए रहा है तो फिर अखंड भारत बनने के बाद तो यह डर और अधिक बढ़ जाएगा।अखंड भारत की परिकल्पना को लेकर हिंदू संगठनों को पुनः विचार करने की आवश्यकता है। नहीं तो यह परिकल्पना सिर्फ परिकल्पना तक ही सीमित रह जाएगी। आज के दौर में भारत के हिंदू संगठनों को अन्य देशों को इतने हल्के में नहीं लेना चाहिए जितने हल्के में भारत के हिंदू संगठन भारत के दलितों और मुसलमानों को लेते है।

वेबसाइट क्या है वेबसाइट के प्रकार?

वेबसाइट के कई अलग-अलग प्रकार हैं और उन सभी में एक चीज समान है। उन सभी को उत्पादक रूप से कार्य करने के लिए यातायात की आवश्यकता होती है। हम ऑनलाइन पैसे कमाने के उद्देश्य से बनाई गई वेबसाइटों के प्रकारों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।वेबसाइट क्या है वेबसाइट के प्रकार? नब्बे के दशक में "डॉट कॉम क्रैश" के बाद, इंटरनेट विपणक अभी भी ब्लॉग, सोशल मार्केटिंग वेबसाइटों जैसे ट्विटर और फेसबुक से ऑनलाइन पैसा कमाने के तरीके ढूंढते हैं। यहां तक कि इस प्रकार की वेबसाइटों को भी फलने-फूलने के लिए ट्रैफिक की जरूरत होती है।एक वेब बिल्डर का ध्यान केवल वेबसाइट के निर्माण वेबसाइट क्या है वेबसाइट के प्रकार? के प्रकार के बारे में नहीं होना चाहिए। सबसे बड़ी समस्या यह है कि एक बार वेबसाइट बन जाने के बाद उस पर पर्याप्त ट्रैफिक नहीं मिल पाता है।यदि आप एक संबद्ध वेबसाइट बनाते हैं, और उस पर ट्रैफ़िक नहीं आता है, तो आपके पास एक मृत वेबसाइट है। यही बात किसी भी तरह की वेबसाइट पर भी लागू होती है। वेबसाइट में क्या लिखते हैं? भीड़ नही; मृत वेबसाइट। ऑनलाइन पैसे कमाने के लिए लोगों द्वारा बनाई जाने वाली सबसे लोकप्रिय वेबसाइटें हैं:संबद्ध वेबसाइट:यह एक ऐसी वेबसाइट है जिसके सभी वेब पेजों में संबद्ध लिंक रखे गए हैं। जब आपके विज़िटर खरीदारी की ओर ले जाने वाले लिंक पर क्लिक करते हैं, तो आपको बिक्री का एक प्रतिशत मिलता है। वेबसाइट पर रखी गई कुकीज़ द्वारा बिक्री को ट्रैक किया जाता है।यह आज का नया ई-कॉमर्स है। कई सहबद्ध विपणक सहबद्ध विपणन प्रणाली का उपयोग करके अपने परिवारों के लिए प्रदान करते हैं। यह एक बिक्री बल के समान है जो घर-घर जाकर विश्वकोश बेचता है। फर्क सिर्फ इतना है कि जिस किसी के पास वेबसाइट है, वह सेल्स फोर्स में शामिल हो सकता है और घर-घर जाने के बजाय कंप्यूटर से कंप्यूटर पर जा सकता है।वेबसाइट की समीक्षा करें:एक समीक्षा वेबसाइट को किसी उत्पाद की व्यक्तिगत समीक्षा के आधार पर डिज़ाइन किया गया है। तकनीकी रूप से, समीक्षा लिखने वाले को उत्पाद के बारे में ईमानदार राय देने के लिए कम से कम एक बार उत्पाद का उपयोग करना चाहिए था। समीक्षा अच्छी या बुरी हो सकती है। अंततः, उपभोक्ता तय करेगा कि उसे वह उत्पाद चाहिए या नहीं।ई-कॉमर्स वेबसाइट:ई-कॉमर्स बिंदु पर सही हो जाता है। इस प्रकार की साइट आपको एक उत्पाद दिखाती है और आप तय करते हैं कि आप इसे खरीदना चाहते हैं या बेहतर कीमत के लिए खरीदारी करते रहना चाहते हैं। ज्यादातर लोग बेहतर कीमतों के लिए खरीदारी करते हैं। इससे वेबसाइट से बिक्री करना कठिन हो जाता है क्योंकि बाजार एक ही तरह के उत्पादों से इतने संतृप्त होते हैं। ई-बे इस श्रेणी में आता है।गूगल ऐडसेंस वेबसाइट:इस प्रकार की वेबसाइट को Google विज्ञापनों को पूरी साइट पर रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है। कभी-कभी आप उन्हें वेब पेज के ऊपर, किनारे, नीचे और बीच में पाएंगे। पैसे कमाने के लिए आप अपनी बड़ाई कर सकते हैं, आपको औसत वेबसाइट से भी अधिक ट्रैफ़िक उत्पन्न करने की आवश्यकता है। इसका मतलब है कि आपके पास वेबसाइट पर कुछ ऐसा होना चाहिए जो उपभोक्ताओं को वास्तव में चाहिए या वे वास्तव में जानना चाहते हैं।सोशल बुकमार्किंग / सोशल नेटवर्किंग:वेबसाइट की यह शैली सामाजिक संबंधों पर आधारित है। यह मूल रूप से दोस्तों के लिए एक-दूसरे के साथ सामूहीकरण करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। यह तेजी से लोगों के लिए खुद को और अपने सामान को बेचने के लिए एक मास मार्केटिंग चैनल बन गया है।

रमी को कैसे पसंद करें - इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें
 11 April 2022  

रम्मी निस्संदेह खेले जाने वाले अधिक लोकप्रिय ताश के खेलों में से एक है। गेम की लोकप्रियता बढ़ने के साथ, गेटमेगा जैसी अधिक से अधिक ऑनलाइन गेमिंग वेबसाइटें ऐसे खेलों में भाग लेने के लिए अधिक खिलाड़ियों के लिए अधिक प्रोत्साहन जोड़ रही हैं। हालाँकि, यदि आप पहली बार खेल के बारे में सुन रहे हैं, या आप इसमें बेहतर होना चाहते हैं, तो आप सही जगह पर है। इस लेख में, आप सीखेंगे आप सीखेंगे रमी कैसे खेलें।रम्मी में बेहतर कैसे बनें?रम्मी काफी सरल और सीधा खेल है। यह गेम अपने दोस्तों और परिवार के साथ खेलने के लिए तेज और काफी मजेदार है। हालांकि, जब आप जीत रहे हों तो कोई भी गेम मजेदार होता है और उसके लिए कुछ जरूरी टिप्स को ध्यान में रखना बेहद जरूरी है। कुछ सरल तरकीबें जो मदद कर सकती हैं, वे हैं:त्यागे गए पाइल से कार्ड बनाने से बचें क्योंकि इससे आपके प्रतिद्वंद्वी को इस बात का अच्छा अंदाजा हो जाता है कि आप कोन से कार्ड जोर रहे है।कोन से कार्ड फेंके जा रहे है, उस पर अधिक ध्यान दें।कम कार्ड खेलने से पहले अपने उच्च कार्ड खेलें।यदि आप खेल छोड़ना चाहते हैं, तो इसे बाद के भाग के बजाय खेल की शुरुआत के करीब करें। ये कुछ बुनियादी टिप्स हैं जो रम्मी खेलते समय आपके पक्ष में काम कर सकते हैं। हालाँकि, ऐसा नहीं है। कुछ अधिक जटिल तरकीबें जिन्हें आप बेहतर परिणामों के लिए अपने खेल में लागू कर सकते हैं, वे इस प्रकार हैं।अपने प्रतिद्वंद्वी को करीब से देखें:चाहे आप एक दूसरे प्रतिद्वंद्वी के साथ खेल रहे हों या 3 या 4 के समूह में, यह जानना कि आपके विरोधी अपने हाथों से कैसे खेल रहे हैं, जीतने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। उन कार्डों पर पूरा ध्यान दें, जिन्हें आपका विरोधी फेंक देता है, खेलता है या चुनता है। इससे आपको पता चल जाएगा कि आपको कौन से कार्ड जमा करने चाहिए और कौन से त्यागने चाहिए।शुद्ध अनुक्रम बनाएं: शुद्ध अनुक्रम प्राप्त करना इस खेल के सबसे महत्वपूर्ण चरणों में से एक है। यह खेल में आपके लिए जीवन रेखा का काम करता है। ऐसा करने से यह सुनिश्चित हो जाएगा कि प्रतिद्वंद्वी द्वारा किसी भी समय घोषित किए जाने की स्थिति में आपके हाथ में सभी कार्डों से अंकों का योग नहीं मिलता है। अपना क्रम तेज़ करें:रम्मी का मुख्य उद्देश्य एक क्रम बनाना और उसे तेज करना है। हालाँकि, अधिकांश लोग अभी भी इससे जूझ रहे हैं, एक आसान तरकीब है, जो आपकी मदद कर सकती है। यह सबसे अच्छा है यदि आप लगातार दो कार्डों को दो वैकल्पिक कार्डों से ऊपर रखते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास 8 और 10 हैं और आप 9 की प्रतीक्षा कर रहे हैं, लेकिन इसके बजाय एक ही सूट का 7 चुनें, तो 7 को रखें और 10 को छोड़ दें। इससे आपके शुद्ध अनुक्रम बनाने की संभावना और बढ़ जाएगी, क्योंकि दोनों एक 9 और 6 मदद कर सकते हैं। साथ ही विरोधियों को भी भ्रमित करते हैं। उच्च कार्ड त्यागें:अंत में, आपको पता होना चाहिए कि उच्च कार्ड आपके हाथ में लंबे समय तक नहीं रखे जाने चाहिए। यह सबसे अच्छा है यदि आप खेल में अपने उच्च कार्ड से जल्दी छुटकारा पाना शुरू कर दें। इन कार्डों में मुख्य रूप से K, Q, J और एक्का जैसे फेस कार्ड शामिल हैं। उन कार्डों के साथ अनुक्रम बनाने की प्रतीक्षा में बहुत समय बर्बाद हो सकता है और आपके अंक का बोझ बढ़ सकता है। यह केवल आपके प्रतिद्वंद्वी को खेल हारने के लिए आपके सामने घोषित करने का कारण बनेगा। इन टिप्स के साथ, आप निश्चित रूप से अपने खेल का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे। हालांकि, किसी भी ऑनलाइन गेमिंग साइट को चुनने के बजाय, गेटमेगा जैसे प्रतिष्ठित मंच के साथ जाना सबसे अच्छा है। वे सुरक्षित हैं और उनके पास लाखों खिलाड़ी पंजीकृत हैं, जो केवल आपके लिए खेल को और अधिक मजेदार बनाता है।

Blog se inakam kaise hotee hai?

ब्लॉग टिप्पणियाँ आपके साइट विज़िटर से मूल्यवान फ़ीडबैक प्राप्त करने का एक आसान तरीका है जो आपके ब्लॉग को विकसित करने में आपकी सहायता कर सकता है।यदि आपके पास गृह व्यापार ब्लॉग है तो आपको प्राप्त होने वाली प्रतिक्रिया का आपकी आय क्षमता पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।यह देखने के लिए पढ़ें कि आप अपने ब्लॉग रीडर द्वारा दिए गए फीडबैक को कैसे बढ़ा सकते हैं जिससे आप अपने ब्लॉग और अपनी आय दोनों में सुधार कर सकें।आपकी साइट पर ब्लॉग टिप्पणियाँ प्राप्त करना हमेशा एक अच्छा संकेत होता है कि ब्लॉग रीडर उस चीज़ में शामिल है जिसके बारे में आप पोस्ट कर रहे हैं। अच्छा बुरा या उदासीन यह एक अच्छा बैरोमीटर है कि आपका ब्लॉग पोस्टिंग एक व्यर्थ प्रयास नहीं है। यदिब्लॉग से इनकम कैसे होती है? आप एक गृह व्यापार ब्लॉग चला रहे हैं तो आपके पाठकों की अन्तरक्रियाशीलता और भी महत्वपूर्ण है।उनकी टिप्पणियों के माध्यम से आप अपने चुने हुए आला में सबसे लोकप्रिय ब्लॉगों में से एक बनने में मदद करने के लिए बहुमूल्य प्रतिक्रिया प्राप्त कर सकते हैं।अब जब हमने आपके ब्लॉग पर किसी भी साइट विज़िटर की भागीदारी के महत्व को स्थापित कर लिया है, तो हम इस आवश्यक और वांछित अंतःक्रियाशीलता को कैसे बढ़ा सकते हैं?आपके ब्लॉग पर मिलने वाली टिप्पणियों की संख्या बढ़ाने में मदद करने के लिए ध्यान में रखने के लिए यहां 7 सुझाव दिए गए हैं।अपने ब्लॉग प्रविष्टियों को मसाला देंएक विवादास्पद ब्लॉग प्रविष्टि के साथ अपने पाठकों को उत्तेजित करने से न डरें। इस तरह की पोस्टिंग बुद्धि और भावनाओं दोनों को उत्तेजित करती है, इसलिए आपको बहुत सारी प्रतिक्रियाओं की अपेक्षा करनी चाहिए।आप नहीं पूछते हैं आपको नहीं मिलता हैअपने पाठकों से प्रतिक्रिया या सुझाव मांगना हमेशा याद रखें। सक्रिय रूप से उन्हें भाग लेने के लिए आमंत्रित या प्रोत्साहित करें। इस तरह आप बस उन्हें टिप्पणी करने के लिए याद दिला रहे हैं और यह ठीक है। इसे आदत बनाने की कोशिश करें।टिप्पणियाँ स्वीकार करेंयदि टिप्पणी के लिए प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है ब्लॉग से इनकम कैसे होती है? तो हमेशा उत्तर दें और आलोचना को व्यक्तिगत रूप से न लें क्योंकि यह केवल आपके ब्लॉगिंग में सुधार करने में आपकी सहायता करने वाला है।कम से कम लोगों को उनकी टिप्पणियों के लिए धन्यवाद देना सुनिश्चित करें।अपनी प्रतिक्रियाओं को निजीकृत करेंटिप्पणियों का उत्तर देते समय टिप्पणीकारों के नाम का उपयोग करना याद रखें ताकि उनके साथ परिचित होने के बारे में अधिक समझ पैदा हो सके। अब आपको लगता है कि आप उनसे सीधे बात कर रहे हैं मुफ्त पुनर्मुद्रण लेख, जिस तरह से आप हैं।लगातार पोस्ट करेंइसका कारण यह है कि जितना अधिक आप अपनी साइट पर पोस्ट करते हैं, उतनी ही अधिक प्रतिक्रियाएं आप अपने ब्लॉग पाठकों से शुरू करने जा रहे हैं।निगरानी करें और नियमित रूप से प्रतिक्रिया देंजब भी संभव हो, टिप्पणियों की समय-समय ब्लॉग से इनकम कैसे होती है? पर निगरानी करने और उनका जवाब देने में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करें।एक साधारण धन्यवादजैसा कि हमने ऊपर उल्लेख किया है यदि और कुछ नहीं तो अपने पाठकों को उनकी टिप्पणियों के लिए धन्यवाद दें और उन्हें बताएं कि आप प्रत्येक की सराहना करते हैं। इस प्रकार का सकारात्मक सुदृढीकरण उन्हें और अधिक छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करेगा।ब्लॉग टिप्पणियां प्राप्त करना न केवल यह दर्शाता है कि आपने अपने ब्लॉग रीडर को कितनी अच्छी तरह प्रेरित किया है बल्कि आपको बहुमूल्य प्रतिक्रिया प्राप्त करने का अवसर भी मिलता है। साइट विज़िटर द्वारा आपके ब्लॉग पोस्टिंग पर प्रतिक्रिया देने वाली कोई भी टिप्पणी आमतौर पर उनकी संतुष्टि या उसके अभाव का संकेत देगी। उनकी प्रतिक्रियाएँ या प्राथमिकताएँ विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं यदि आप एक गृह व्यापार ब्लॉग संचालित करते हैं क्योंकि यह अब आपकी आय से जुड़ा हुआ है। ऊपर चर्चा किए गए 7 सुझावों को लगातार आधार पर शामिल करके आपकी साइट अंततः आपके आला में अधिक लोकप्रिय ब्लॉगों में से एक बन जाएगी

वेबसाइट क्या है वेबसाइट का महत्व क्या है
 16 March 2022  
Art

चाहे आप एक व्यवसाय के स्वामी के रूप में शुरुआत कर रहे हों या कुछ समय से व्यवसाय में हों, एक वेबसाइट होना महत्वपूर्ण है। वेबसाइट क्या हैआपके वर्तमान और भविष्य के ग्राहक उस व्यवसाय से इसकी अपेक्षा करने के लिए आते हैं जिसे वे संरक्षण देते हैं, इसलिए यदि आपके पास कंपनी की वेबसाइट नहीं है, तो हो सकता है कि आप बहुत अधिक बिक्री खो रहे हों।वेब पर मौजूद व्यवसायों की संख्या में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई है और आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आपके प्रतिस्पर्धियों की वेबसाइटें भी ऑनलाइन हैं। तो, अपने प्रतिस्पर्धियों को सिर्फ इसलिए बिक्री के लिए आपको हराने की अनुमति क्यों दें, क्योंकि आपके व्यवसाय की कोई वेबसाइट नहीं है। वेबसाइट का महत्व  क्या है वेबसाइटें केवल बड़े व्यवसायों के लिए नहीं हैं। वे छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों के लिए भी जरूरी हैं।अपनी दैनिक आवश्यकताओं के समाधान खोजने के लिए लाखों लोग प्रतिदिन इंटरनेट पर सर्फ करते हैं। कुछ ऑनलाइन खरीदारी करने के लिए वेब पर सर्फ करते हैं क्योंकि इससे उनका समय, ऊर्जा और पैसा बचता है। सर्फ़र किसी व्यवसाय के बारे में अधिक जानने के लिए वेबसाइटों पर जाते हैं, और वे ऐसा किसी भी स्थान से और किसी भी समय कर सकते हैं। आपका वर्चुअल स्टोर 24 घंटे, सप्ताह में 7 दिन खुला रहता है, भले ही आपका कार्यालय बंद हो। अपनी वेबसाइट को एक महान ग्राहक सेवा प्रतिनिधि, बिक्री प्रतिनिधि और मार्केटिंग एजेंट के रूप में सोचें। जब आप ऐसा करेंगे तब भी यह थकेगा या छुट्टी पर नहीं जाएगा। तो, आप निश्चिंत हो सकते हैं कि आपकी वेबसाइट आपके लिए काम करना जारी रखेगी।एक ग्राहक सेवा प्रतिनिधि के रूप में, आपकी वेबसाइट आपकी कंपनी के घंटों और स्थान के बारे में सवालों के जवाब देती है, आप कौन से उत्पाद और सेवाएं प्रदान करते हैं, और कोई भी मामूली विवरण प्राप्त करने के लिए लोग आमतौर पर आपके कार्यालय को कॉल करेंगे। यह आपके कार्यालय में होने वाले फोन कॉल की संख्या को कम करेगा और आपको और आपके कर्मचारियों को आपके व्यवसाय के अन्य पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देगा। आपकी वेबसाइट को उस पेशेवर छवि को प्रतिबिंबित करने के लिए डिज़ाइन किया जाना चाहिए जिसे आप व्यक्त करना चाहते हैं। वेबसाइट का महत्व  क्या है नेविगेट करना आसान होना चाहिए, ताकि सर्फर कर सकें। अच्छा डिज़ाइन न केवल किसी साइट को सुंदर बनाने की क्षमता है, बल्कि इसमें एक उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस भी प्रदान करना होता है जो कई अलग-अलग उम्र और कंप्यूटर साक्षरता के स्तर के लोगों को सहज लगता है।एक बिक्री प्रतिनिधि के रूप में, एक व्यावसायिक वेबसाइट आपकी बिक्री बढ़ा सकती है और आपकी लागत कम कर सकती है। हर साल ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों की संख्या बढ़ती जाती है। ऑनलाइन खरीदार कभी-कभी मनमर्जी से खरीदारी करते हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि जब वे खरीदारी करने के लिए तैयार हों तो आपकी वेबसाइट उनके लिए उपलब्ध हो। अपनी वेबसाइट पर शॉपिंग कार्ट जोड़ने से खरीदार घंटों के बाद या केवल सुविधा के लिए सीधे आपकी वेबसाइट से खरीदारी कर सकेंगे।  वेबसाइट क्या है यदि आप डिजिटल सामान बेच रहे हैं, तो आप अपनी वेबसाइट को उस आइटम को स्वचालित रूप से वितरित करने के लिए सेट कर सकते हैं जिसे ग्राहक ने सीधे अपने ईमेल बॉक्स में खरीदा है।एक मार्केटिंग एजेंट के रूप में, आपकी वेबसाइट आपको न केवल अपने स्थानीय समुदाय के लोगों तक, बल्कि पूरे विश्व में लोगों तक पहुंचने की अनुमति देती है। आपकी वेबसाइट आपको बहुत सारे पैसे बचाएगी जो आप अन्यथा डाक, कागज या विज्ञापन पर खर्च करते। कई व्यवसायों में उनकी वेबसाइट पर एक संपर्क या प्रतिक्रिया फ़ॉर्म शामिल होता है जो उन्हें लीड उत्पन्न करने में मदद करता है। उनकी साइट पर आने वाले लोगों को उन सब्सक्रिप्शन या विज्ञापनों में शामिल किया जा सकता है जिन्हें कंपनी के नए उत्पादों और सेवाओं के बारे में ईमेल किया जाता है।इसके अतिरिक्त, यदि आपको विक्रेताओं, ग्राहकों या आम जनता को समाचार या जानकारी देने की आवश्यकता है, तो आप तुरंत अपनी वेबसाइट पर सामग्री जोड़ सकते हैं और सभी को देखने के लिए इसे ऑनलाइन पोस्ट कर सकते हैं। आप केवल अपने व्यवसाय कार्ड में अपना वेबसाइट पता जोड़कर मित्रों, परिवार और भविष्य के ग्राहकों को अपनी वेबसाइट पर आसानी से निर्देशित कर सकते हैं। एक वेबसाइट एक बेहतरीन टूल है जो आपकी कंपनी को बढ़ावा देती है और वर्ड-ऑफ-माउथ को बढ़ाती है। तो, आपके व्यवसाय के लिए एक वेबसाइट क्यों महत्वपूर्ण है? क्योंकि आज के इस युग में आपके व्यवसाय को फलने-फूलने के लिए ठीक यही चाहिए।

शुरु करिए यह 5 बिजनेस, मुनाफा होगा अधिक
 7 March 2022  
Art

सभी लोग अपने भविष्य को लेकर सोचते हैं। लोग यह चाहते हैं कि उनके पास कोई ऐसा बिजनेस हो जिसकी मांग आगे बढ़ें। इसी को ध्यान में रखकर यहां कुछ भविष्य के बिजनेस आईडियाज दिए गए हैं जो लंबे समय में अधिक/अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इन बिजनेसेज की खास बात यह है कि इन्हें कम निवेश के साथ शुरु करके कुछ समय बाद बिजनेस का विस्तार किया जा सकता है।बिजनेस का विस्तार करने क लिए आप बिजनेस लोन की मदद प्राप्त कर सकते हैं। आपको जानकारी के लिए बता दें कि देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan द्वारा 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन और 3 लाख रुपये तक का लाइन ऑफ क्रेडिट बहुत आसानी से प्रदान किया जाता है। को-वर्किंग स्पेस बिजनेस भविष्य में कार्यालयों का चलन बदलने वाला है। उच्च किराये के खर्च के कारण, छोटे व्यवसायों के लिए एक अलग कार्यालय स्थान का खर्च वहन करना बहुत मुश्किल है। इसलिए लोग को-वर्किंग स्पेस में काम करना पसंद कर रहे हैं। यह न केवल उन्हें किराये के खर्च को कम करने में मदद करता है, बल्कि विशेषज्ञता और कौशल साझा करने में भी मदद करता है। अगर आपके पास खाली जगह है तो को-वर्किंग स्पेस बिजनेस करना शुरू कर दें। यह एक नया बिजनेस आइडिया है जो बहुत फ्यूचरिस्टिक है। यह भारत में सबसे अच्छे आगामी बिजनेस आईडियाज में से एक है। जनरल स्टोर का बिजनेसविशेषज्ञों का मानना है कि कुछ देशों की मध्यम वर्ग की आबादी में जबरदस्त इजाफा होगा और जिस देश में मध्यम वर्ग की आबादी दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है उसे एक उभरते बाजार के रूप में देखा जा रहा है। मध्यम वर्ग के विस्तार के साथ, वस्तुओं और सेवाओं की खपत में तेज वृद्धि होगी। यह उन लोगों के लिए एक अच्छा अवसर है जो रिटेल चेन स्टोर शुरू करने जैसा अच्छा और सेवाओं का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं। रियल एस्टेट में बिजनेसहर साल तेजी से हो रहे शहरीकरण से हजारों लोग बड़े शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे अच्छी नौकरी ढूंढना, जीवन स्तर में सुधार करना आदि। इस प्रवृत्ति के कारण, किफायती घरों की आवश्यकता बहुत बढ़ गई है। इसने रियल एस्टेट उद्योग, दलालों और निर्माण कंपनियों के लिए अपनी सेवाएं देने का एक बड़ा अवसर पैदा किया है। यदि आप इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं, तो आपके पास अपने क्षेत्र में काम करने के लिए प्रासंगिक अनुभव और सरकारी लाइसेंस होना चाहिए। हेल्थ सर्विस इंडस्ट्री  बदलती जीवनशैली के कारण लोग बीमारियों और स्वास्थ्य देखभाल के मुद्दों के प्रति अधिक संवेदनशील हो गए हैं। फॉर्च्यून के अनुसार, भविष्य में हेल्थकेयर उद्योग का अत्यधिक विकास होगा। निवारक दवाएं तेजी से बढ़ेंगी और सामान्य स्वास्थ्य देखभाल प्रथाओं को व्यक्तिगत स्वास्थ्य देखभाल प्रथाओं द्वारा प्रतिस्थापित किया जाएगा। यदि आप किसी भी रूप में इस उद्योग में कूद सकते हैं, तो आप निश्चित रूप से भविष्य में उच्च रिटर्न का आनंद लेंगे। यह 2025/2030 के लिए भारत में सर्वश्रेष्ठ फ्यूचर बिजनेस आइडिया में से एक है। होम सौर ऊर्जा कंपनी स्थापित करें हमारे देश के अधिकांश भागों में वर्ष भर पर्याप्त धूप प्राप्त होती है। इसलिए, निवासियों के लिए अपनी खुद की बिजली पैदा करने और पैसे बचाने का एक बड़ा अवसर है। इसके लिए आप लोगों को उनकी छतों या बालकनियों पर स्थापित करने के लिए सौर उपकरण खरीदेंगे और स्थापित करेंगे। इस प्रकार सृजित सौर ऊर्जा को अतिरिक्त शक्ति प्रदान करने के लिए व्यक्ति या भवन के लिए मुख्य बैटरी से जोड़ा जा सकता है। यह भारत में उभरते हुए आगामी बिजनेस आईडियाज में से एक है। 

बिजनेस लोन क्यों लेना चाहिए है?
 3 March 2022  

बिजनेस चलाने के लिए पैसों की जरूरत होती है। बिजनेस में वन टाइम इंवेस्टमेंट नहीं होता है। व्यवसाय चलाने के लिए लगातार धन चाहिए होता है। ऐसे में जब बिजनेस की जरूरतों को पूरा करने के लिए पैसों की जरूरत पड़ती है तो बड़े व्यापारी अपने सुरक्षित फंड का उपयोग कर लेते हैं।समस्या एमएसएमई व्यापारियों के साथ आती है। क्योंकि इनके पास उतना ही फंड होता है, जितने से बिजनेस चलने में कोई रुकावट न आये। ऐसे में जिन कारोबारियों के पास कम पूंजी होती है, उनके लिए बिजनेस लोन लेना आवश्यक हो जाता है। बिजनेस लोन की सहायता से कारोबारी अपने कारोबार की दैनिक जरूरतों को पूरा करने में आसानी हो जाती है।  व्यवसाय का विस्तार कर सकते हैं कई कारोबारी ऐसे होते हैं, जो अपना कारोबार छोटे स्केल पर तो शुरु कर देते हैं, लेकिन समय के साथ अपना बिजनेस बढ़ाने का भी विचार करते रहते हैं। ऐसे में कारोबार का विस्तार करने के लिए सबसे पहली शर्त होती है “ आवश्यक धन होना ”।  यहां पर जिन कारोबारियों के पास पर्याप्त धन होता है, उनके लिए तो दिक्कत की कोई बात नहीं होती है। लेकिन, जिन कारोबारियों के पास आवश्यक धन उपलब्ध नहीं होता है, उनके लिए अपना बिजनेस बढ़ाना मुश्किल हो जाता है। ऐसी स्थिति में काम आता लाइन ऑफ क्रेडिट।  अगर कोई बिजनेसमैन अपने पुराने कारोबार को बढ़ाना चाहता है तो वह बिजनेस लोन का बहुत बेहतरीन उपयोग कर सकता है। बिजनेस लोन के धन को वह अपने कारोबार के विस्तार में लगने वाले खर्च के रूप में कर सकता है। बिजनेस का वेंचर शुरु कर सकते हें  अगर आपका पहले ही कोई कारोबार/दुकान है, जो अच्छी चल रही हो। अगर आप अपने दुकान की ब्रांच दुसरे जगहों पर भी खोलना चाहते है लेकिन पैसो की कमी हो रही है तो यहां आपकी मदद करेगा ‘बिजनेस लोन’। आप लोन की मदद से अपनी अपनी दुकान शुरू कर सकते है, फिर लोन की रकम वापस कर सकते है। अगर आपका कारोबार 2 साल से पुराना है और सालाना टर्नओवर 10 लाख रुपये से अधिक है आप ZipLoan से 7.5 लाख का बिजनेस लोन बहुत आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। इसी के साथ आपको जानकारी के लिए बता दें कि ZipLoan द्वारा बिजनेस के नित खर्चों को पूरा करने के लिए लाइन ऑफ क्रेडिट भी प्रदान किया जाता है। जिसमें सिर्फ उपयोग हुई धनराशि पर ही ब्याज देना होता है। वर्किंग कैपिटल में मैनेज करने में सहायक सभी बिजनेस में हर रोज की कुछ जरूरतें होती है। बिजनेस की दैनिक जरूरतों में कोई उपकरण खरीदना हो सकता है या कोई कर्मचारी नौकरी पर रखना हो। बिजनेस लोन का उपयोग कारोबारी अपने कारोबार के इन्वेंट्री समानों खरीदने में कर सकते हैं । बिजनेस लोन की रकम से नए कंप्यूटर, नए फर्नीचर, नए डेस्क, के साथ ही चाहे तो ग्राहकों की सुविधा के लिए कुछ सामान बढ़ा सकते है। इनकम टैक्स बचाने में सहायक  बिजनेस के लिए लिए जाने वाले बिजनेस लोन पर सरकार टैक्स में छूट प्रदान करती है। इनकम टैक्स भरने के छूट का फायदा इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते समय उठाया जा सकता है। 

अतीत की आहटें
 27 February 2022  

"जीव, जिस क्षण मां की कोख में आता है,उसी समय से ही जननी के शरीर में बहता लहू,लगातार धड़कता दिल और नियतिवश परिवेश का प्रत्यक्ष क्रियाओं, प्रतिक्रियाओं का समावेश उसके जीवन की भावी यात्रा के लिए पगडंडी बनाना शुरू कर देते हैं। मां भी ,उस नवजात के जीवन के प्रत्येक पहलू से भावनात्मक रूप से संचारित करने की सुकोमल,प्राकृतिक और प्रारम्भिक पगडंडी होती है। चेतन शरीर के रूप में जीव जब अपनी जीवन यात्रा में आगे बढ़ता है तो ये "अतीत की पगडंडियां" बन मन को शीतल करती हैं, क्योंकि इनके भीतर पूर्वजों के याद स्वरूप पलों के इबारती पदचिन्ह छिपे होते हैं। यह सत्य है कि ये पल बीते स्मृतियों के अनुपयोगी फ्रेम में मढ़े होते हैं पर यह शाश्वत है कि अतीत कितना ही धूंधला हो,उसकी आहटें हरसिंगार की तरह अनबोली महक लिए होती हैं।इसका आकर्षण पुराने बरगद के जड़ की तरह इतनी गहरी होती है कि ये परिवर्तित वक्त के पैरों में घुंघरू बांध देती हैं और उसे अपने साये में ले पूरे अहसासों से संवेदनाओं को महकाने लगती हैं।"

अतीत की पगडंडियां भावनात्मक रूप से गहराई लिए होती हैं
 26 February 2022  

"जीव, जिस क्षण मां की कोख में आता है,उसी समय से ही जननी के शरीर में बहता लहू,लगातार धड़कता दिल और नियतिवश परिवेश का प्रत्यक्ष क्रियाओं, प्रतिक्रियाओं का समावेश उसके जीवन की भावी यात्रा के लिए पगडंडी बनाना शुरू कर देते हैं। मां भी ,उस नवजात के जीवन के प्रत्येक पहलू से भावनात्मक रूप से संचारित करने की सुकोमल,प्राकृतिक और प्रारम्भिक पगडंडी होती है। चेतन शरीर के रूप में जीव जब अपनी जीवन यात्रा में आगे बढ़ता है तो ये "अतीत की पगडंडियां" बन मन को शीतल करती हैं, क्योंकि इनके भीतर पूर्वजों के याद स्वरूप पलों के इबारती पदचिन्ह छिपे होते हैं। यह सत्य है कि ये पल बीते स्मृतियों के अनुपयोगी फ्रेम में मढ़े होते हैं पर यह शाश्वत है कि अतीत कितना ही धूंधला हो,उसकी आहटें हरसिंगार की तरह अनबोली महक लिए होती हैं।इसका आकर्षण पुराने बरगद के जड़ की तरह इतनी गहरी होती है कि ये परिवर्तित वक्त के पैरों में घुंघरू बांध देती हैं और उसे अपने साये में ले पूरे अहसासों से संवेदनाओं को महकाने लगती हैं।"

व्यापारी अपने लिए लोन का चुनाव कैसे करें? जानिए कुछ सुझाव
 18 February 2022  
Art

कारोबार के विस्तार करने के लिए बिजनेस लोन एक शानदार विकल्प होता है। बिजनेस लोन की मदद से एमएसएमई कारोबारी अपने कारोबार का वर्किंग कैपिटल आसानी के साथ मैनेज कर पाने में सक्षम हो पाते है। वर्तमान समय में लगभग सभी बैंको से और एनबीएफसी कंपनियों से बिजनेस लोन आसानी से मिल जाता है।लेकिन, इसका यह मतलब नहीं होता है कि किसी भी बैंक या एनबीएफसी से एमएसएमई लोन के तौर पर बिजनेस लोन ले लेना चाहिए। ऐसा करने से कारोबारी को आगे चलकर कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसीलिए बिनजेस लोन का चुनाव करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों पर गंभीरता से विचार करना आवश्यक होता है। बिजनेस लोन की ब्याज दर कितनी है? लोन एक फाइनेंनशियल प्रोडक्ट होता है। इसलिए बिजनेस लोन पर ब्याज लागू होती है। अगर बिजनेस लोन अधिक ब्याज पर मिल रहा है, तो इसका अर्थ यह होता है कि आपको बहुत अधिक रकम ब्याज के  रुप में चुकाना पड़ सकता है। इसका विकल्प यह होता है कि बिजनेस लोन के लिए अप्लाई करने से पहले ही लोन कंपनी या बैंक से बिजनेस लोन की ब्याज दर के संबंध में जानकारी प्राप्त कर लें। इससे यह फायदा होता है कि आप बाद में होने वाली कठिनाइयों से बच सकते हैं। बिजनेस लोन प्री-पेमेंट चार्जेस फ्री होना चाहिए कारोबार में पैसा आता और जाता रहता है। इसलिए बिजनेस लोन वहीं से लेना चाहिए, जहां पर फोर क्लोजर चार्जेस फ्री यानी प्री-पेमेंट चार्जेंस फ्री मिले। इससे यह फायदा होगा कि आपके हाथ में जब पैसा आयेगा तब आप चाहें तो बिजनेस लोन को इक्कठे वापस कर सकते हैं और अतिरिक्त ब्याज से बच सकते हैं। बिजनेस होना चाहिए बिना कुछ गिरवी रखे कारोबार के लिए लोन कभी भी प्रॉपर्टी गिरवी रखकर नहीं लेना चाहिए। इससे यह फायदा होता है आपकी प्रॉपर्टी किसी कंपनी या बैंक के पास बंधक होने से बच जाती है। दूसरा बड़ा फायदा यह है कि अगर आप एमएसएमई लोन को चुकाने में विफल हो जाते हैं तो भी आपकी प्रॉपर्टी बची रह सकती है। क्योंकि भारत सरकार और सिबडी के सहयोग से चल रही क्रेडिट गारंटी योजना के द्वारा आपके एमएसएमई लोन का 60 प्रतिशत तक का लोन सिबडी भर सकता है। इसलिए जब भी बिजनेस लोन लेना हो, तो बिना कुछ गिरवी रखे ही बिजनेस लोन लेना ठीक होता है। बिजनेस लोन की पात्रता आसान होना चाहिए अगर बिजनेस लोन की पात्रका कठिन होगी तो बिजनेस लोन प्राप्त करना लोहे के चने चबाने जितना कटिन हो जाएगा। इसलिए उसी बैंक या एनबीएफसी से बिजनेस लोन लेना ठीक होता है, जहां पर आसान पात्रता पर बिजनेस लोन सहज मिल जाता है। बिजनेस लोन के लिए कम कागजातों की मांग होना चाहिए अगर बिजनेस लोन के लिए बहुत अधिक कागजातों की मांग होती है, तो कारोबारी कागजात इक्कठा करने में परेशान हो सकते हैं। वह अपने बिजनेस पर ध्यान ही नहीं दे पाएंगे। इसलिए बिजनेस लोन उसी कंपनी या बैंक से लेना ठीक होता है, जहां पर सिर्फ बेसिक कागजातों की मांग की जाती है।   बिजनेस लोन के लिए सबसे अच्छा विकल्प फाइनेंस मार्केट में वैसे तो बहुत सी एनबीएफसी और बैंक हैं, जहां से व्यापारियों को लोन मिलता है। लेकिन देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan कंपनी बाकियों से जरा अलग है। क्योंकि यहां पर एमएसएमई व्यापारियों को बहुत ही आसान तरिके से 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन, सिर्फ 3 दिनों* में मिलता है। खास बात यह है लोन के लिए बहुत ही बेसिक कागजातों की आवश्यकता होती है और लोन का सभी प्रोसेस ऑनलाइन होता है। 

भारत में घर से फूलों का व्यवसाय कैसे शुरू करें? जानिए
 18 February 2022  
Art

वे दिनलद गए जब फूल केवल महिलाओं के बालों को सजाने के लिए माना जाता था। अब सभी विशेष अवसरों के लिए फूलों की अत्यधिक मांग होती है, चाहे वह शादी हो, सगाई की रस्म हो, गृह प्रवेश समारोह हो, नामकरण समारोह हो, घर की सजावट हो, व्यावसायिक कार्यक्रम हों, विशेष छुट्टियां हों, कर्मचारियों की नियुक्ति हो, और सूची जारी रहती है। चूंकि सभी मौसमों में इनकी इतनी मांग होती है, इसलिए किसी को आश्चर्य हो सकता है कि क्यों न फूलों का व्यवसाय शुरू किया जाए? सवाल यह है कि फूलों का व्यवसाय कैसे शुरू किया जाए? फूल का व्यवसाय ऐसा है कि इसमे दिन – प्रतिदिन मांग बढ़ने वाली है। इसलिए इस व्यवसाय को सिमित फंड के साथ शुरु करके कुछ समय बाद बिजनेस का विस्तार किया जा सकता है। बिजनेस का विस्तार करने के लिए आपको देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan से सिर्फ 3 दिनों* में बिजनेस लोन मिल सकता है। फूल का बिजनेस आइडिया अपना फूल व्यवसाय शुरू करने के लिए, दो विकल्प हैं; सबसे पहले, आप इसे ऑनलाइन कर सकते हैं या ऑफलाइन स्टोर स्थापित कर सकते हैं, लेकिन पहले, हमें फूल उद्योग में व्यवसाय चलाने के चरणों के बारे में जानना होगा। स्किल की आवश्यकता फूलवाले न केवल पौधों और गुलाबों से निपटना पसंद करते हैं; वे विवरण और सौंदर्य अपील के बारे में सावधान हैं। एक फूलवाले के रूप में आपको फुर्तीला और साधन संपन्न होना चाहिए। यह मजबूत नेतृत्व कौशल को बढ़ावा देगा। आपके व्यवसाय के खुदरा पहलू का मतलब है कि जब आप गुलाब की खरीदारी करते हैं, तो आप ग्राहकों के साथ काम कर सकते हैं। विवाह और अंतिम संस्कार समारोहों के लिए फूलों की व्यवस्था भी तब की जाती है जब सतह के पास भावनाएँ अत्यधिक होती हैं। कठिन परिस्थितियों में, आपको रचनात्मक, कूटनीतिक और यथार्थवादी तरीके से कार्य करने के लिए तैयार रहना चाहिए। फूल बिजनेस को सीखना आप या तो एक सामुदायिक कॉलेज में पढ़ सकते हैं या एक फूलवाला के साथ अध्ययन कर सकते हैं ताकि एक फूलवाला का व्यापार सीख सकें। कुछ सामुदायिक कॉलेज पुष्प डिजाइन प्रमाणन कार्यक्रम प्रदान करते हैं, लेकिन कॉलेज क्रेडिट पेशे से फूलवाला बनने के लिए पर्याप्त नहीं हैं। स्कूल में रहते हुए एक फूलवाले के साथ काम करना अपने अनुभव का सर्वोत्तम उपयोग करने का एक अच्छा तरीका है। यदि फूलवाले के पास गुलाब तैयार करने के लिए कर्मचारी या इंटर्नशिप नहीं है, तो आप दुकान को चलाने के तरीके को जानने के लिए अंशकालिक या अन्य अयोग्य नौकरियों में दुकान की सफाई करने का प्रयास कर सकते हैं। रिसर्च करें आपका संभावित ग्राहक कौन होगा? आपकी फूलों की खरीदारी की आदतें क्या हैं, और आप शायद सबसे ज्यादा क्या खरीदते हैं? अपने उपभोक्ताओं (बाजार) के बारे में जितना हो सके उतना ज्ञान पर विचार करें। चिंता करने वाली एक बात यह जानना है कि फूल आपके ग्राहकों के जीवन में क्या भूमिका निभाएंगे। क्या आप बीमार या मृत लोगों के लिए गुलाब खरीदना चाहेंगे? या फूलों के आयोजन/उत्सव/जन्मदिन एक समुदाय का एक महत्वपूर्ण पहलू हैं? अपने समुदाय के व्यवसायों और उन्हें चलाने में फूलों की भूमिका के बारे में सोचें। उदाहरण के लिए, क्या समुदाय के कारोबारी नेता अक्सर अपनी लॉबी में फूलों की गतिविधियों या सम्मेलनों में भाग लेते हैं? क्या आपका क्षेत्र ऐसा है जहां विवाह "गंतव्य" पर होते हैं? क्या निगमों के मुखिया अपने कर्मचारियों को फूल भेंट करते हैं? रिसर्च करें कि कितनी बार विभिन्न उद्योग अपने उद्यमों को फूलों और उनके पारंपरिक पुष्प डिजाइनों पर बजट देते हैं। इससे आपका बिजनेस बढ़ सकता है। अपने प्रोडक्ट को खास तरह से पेस करें जो चीज़ आपको सबसे अलग बनाती है, उसे ढूँढ़ना ही आपको साधारण फूलों की व्यवस्था बेचने वाले सुपरमार्केट में लोकप्रिय बनाता है। जबकि आपका कलात्मक व्यक्तित्व और आपके द्वारा की जाने वाली व्यवस्थाएं आपके द्वारा किए जाने वाले सबसे स्पष्ट समर्थन हैं, ऐसा करने के अन्य तरीके भी हैं। आप सामग्री और लक्षित बाजारों पर काम कर सकते हैं या गतिविधियों के साथ एक निश्चित उद्योग को परिभाषित कर सकते हैं जो आप बार-बार आपूर्ति करेंगे। जो कुछ भी आपको विशेष लगता है, उस पर चिंतन करें और अपनी कंपनी को उसके इर्द-गिर्द विकसित करें। 

जीवन का अधूरापन
 17 February 2022  
Art

         यदि नितांत सत्य कहा जाय तो रिक्तिता लोगों का वास्तविक जीवन त्रुटियाँ, असुरक्षा की भावना और आशंकाओं से प्रारम्भ होता है और संसार सागर में इन्हीं लहरों के थपेडे खा - खाकर जीवन आखिरी दहलीज पर पहुँच जाता है I लोग अपूर्णता लिए जन्म लेते हैं और यही अधूरापन ही लोगों को वास्तविकता का अनुभव प्रदान और अन्तर्व्दन्व्द का सृजन करता है Iजैसे अक्सर यह महसूस होता है कि हमें किसी चीज की जरूरत है,पर यह क्या ? कुछ कहा नहीं जा सकता, एक अधूरापन सालता रहता है Iनियति निर्धारित यह कमी को मानव द्वारा स्वीकार करने और जीने का जज्बा बना लेने के बावजूद भी उसको अपनी जीवनयात्रा के हर क्षण ठोंकरें खानी पडती हैI कहावत है कि मौत की पीडा तो केवल लोगों में भय उपजाने के हेतु होता है, पर असली पीडा तो मानव जीवन के अधूरेपन से भरी पगडंडी से होता है I अधूरेपन की हकीकत ,शब्दों के सूनेपन की विदीर्णता से पोषित होता है पर यह उत्कंठा के साथ जीवन को सिंचित करता है,यह मानव के लिए एक प्रेरक का काम करता है , मानव इस खालीपन को भरने हेतु अपने काम की ओर झुकता है जैसे रासायनिक तत्व अपने स्वभाव के अधूरेपन के कारण एक दूसरे से विभिन्न प्रकार के संयोंगो से रासायनिक क्रियायें करते हैं जैसे दाता और ग्राही उर्जा अंतरण के रूप में (वैद्युत संयोजकता) अथवा परस्पर ऊर्जा साझा करके (सहसंयोजकता) I अगर जीवन में कमी न हो तो जीवन का अंत सा प्रतीत होने लगता है जिस प्रकार रासायनिक तत्व में ऊर्जा की संतृप्तता होने से वे निष्क्रिय हो जाते है I हम कह सकते हैं कि अधूरापन क्रियाशीलता का सबसे बडा भंडार होता है, साथ ही साथ जब भी कोई घटना मानव जीवन में असंतुलन लाती है तो वह इसे संतुलन की दिशा की ओर लाने का प्रयास करता है I जीवन उस बीज के ससान है जिसे पंच तत्व संपूर्णता में गढ्ने का प्रयास करते हैं पर होता नहीं है जिसके कारण वह विभिन्न आकारों में अंकुरित होता है Iयही अधूरापन,जीवन की निरन्तरता का अहसास कराता है यह जीवन का ईंधन है और पूर्णता मृत्यु का द्योतक है और यह कई तहों के मानव चरित्र का निर्माण भी करती है, जैसे अपूर्णता जीवन की सच्चाई है,पूर्णता मिथक है I ठीक उसी तरह जैसे आधा दिन और आधी रात मिलकर मानव के अधूरेपन की वास्तविकता का अहसास कराते हैं हर सांसारिक सम्बन्ध में एक खालीपन है , यह अभिशाप नहीं ,प्रेरणा है Iकभी यह अपने में कई उत्तर समाहित करता है जैसे ऐसा क्यूँ लगता है, हमारे पास धन है पर मन की शांति नही होती ; शान शौकत है पर स्वास्थ्य नहीं होता ; सफलता मिलती है पर मन में खुशी नहीं होती I इसमें मुख्य बात यह है कि जिन्दगी का अधूरेपन का अपना एक अर्थ है। जैसे अपरिपक्व प्रेम ही उसकी परिपक्वता है और इसी भ्रमजाल में लिप्त रहना ही प्रेम का संजीवन है I उसकी इस अर्थ को समझने के लिए आवश्यक है कि हमने अर्थवत्ता की जो परिभाषा बनी हुई है,उसमें थोडा सा सुधार कर लिया जाय, कहने का मतलब यह है कि हमें अपने सपनों के पर समेटने की कोशिश कर लेने चाहिए।

हिन्दी दिवस:विजय पर्व जैसा मनाना चाहिए
 17 February 2022  
Art

      हम सभी जानते हैं कि स्वाधीनता संग्राम में राष्ट्र को एक मंच पर लाने और  एक साथ स्वर मिलाकर आवाज उठाने में हिन्दी की अहम् भूमिका रही है।आज हिंदी इतनी सक्षम है कि उसमें चिकित्सा, प्रौद्योगिकी, कृषि,कम्प्यूटर आदि विधाओं में वैज्ञानिक रचनायें लिखना सरल और सहज हो गया है। हमारे भारतीय वैज्ञानिक श्री जयंत नार्लीकर ने भी यह प्रमाणित किया कि चरक और सुश्रुत ग्रंथ वास्तव में सर्वोत्कृष्ट हैं।अब ऐसे में सवाल यह है कि जब हम अपनी प्रजातंत्र शासन में देश को विकास की गति दे रहे हैं तो इसको राष्ट्रभाषा से क्यों नही विभूषित करते ? आखिर वर्ष में एक दिन हिंदी दिवस,हिंदी सप्ताह या हिंदी पखवाडा मनाने की जरूरत क्या है?यह दिवस तो हम भारतीयों का विजय पर्व है इस दिन तो 'हिंदी भाषा के समृद्धि और अंतार्राष्ट्रीय मंच पर राष्टृभाषा के समान आदर के लिए' पूरे देश को संकल्प लेना चाहिये I यह हमारे लिए गंभीर चिंतन और मंथन का विषय होना चाहिए कि हिंदी भाषा को इस स्तर तक लाने में हमारी हजारों वर्ष पुरानी सभ्यता और संस्कृति, पूर्वजों के बलिदान और नेताओं का निः स्वार्थ मार्गदर्शन रहा है और आज इसी हिंदी से योग, प्राणायाम और वेदांत है।आज हिंदी है तो संस्कृत भाषा है। तमिल और मलयालम भाषायें फली फूली हैं।हिंदी से ही दीवाली,ओणम आदि पर्व हैं।यह अक्षरश: सत्य है हिंदी ने हिन्दुस्तान की आत्मा को अक्षुण्ण रखा है।हिंदी तो अपनेपन का प्रतीक है।हम सभी को हर हिंदी दिवस पर यह सोचना है कि मानव सक्रियता के हर क्षेत्र में  हिंदी को उसके जरूरतों के मुताबिक कैसे समृद्ध करें, उन्नत करें ताकि आने वाला हर हिंदी दिवस हमारे लिए विजय पर्व के साथ उन्नति पर्व भी बने।           यह नया सहस्राब्दि तीव्र परिवर्तन का है,इस सूचना क्रांति के युग में भीषण प्रतिस्पर्धा भी है।इसमें तनिक भी शक नहीं होना चाहिये कि नये युग की अपेक्षाओं के अनुरूपहमारा भारत एक प्रमुख शक्ति के रूप में उभरेगा। अत: हिंदी को तदनुसार ढालने की चुनौती स्वीकार करना होगा कि वह अपने देश के उत्तरोत्तर विकास में अपनी अहं भूमिका निभा सके। इस अ पर गंभीर आत्मनिरीक्षण और अपनी उपलब्धियों के निष्पक्ष आकलन करना अपेक्षित है।*********

Best Neurotherapy in Delhi | Neurotherapy Training | Neurotherapy Training Course | Aarogyapeeth
 24 January 2022  
Art

सत्य कथाअपने प्यारे भारत की मुख्य बड़ी 2 ज्वलंत समस्या है , नं० एक पिछले 50 वर्षों से कई बीमारियाँ महामारी का रूप लेती जा रही हैं जिसमें शुगर, बीपी, केंसर, गर्दन, कमर दर्द, कन्धा दर्द, मोटापा गैस एसिडिटी माइग्रेन आदि में घुटना दर्द सबसे भयंकर है ये तो एक कदम जिंदगी की चाल ही रोक देता है सारे अरमान ख़त्म कर देता है | वर्तमान के हालात बताते है की ये देश की 100% अवादी को होना ही है | घुटना दर्द का वर्तमान एलोपेथ का खर्चा 5 से 7 लाख रुपया प्रति व्यक्ति है जिसे देश की 80% से अधिक आवादी किसी भी हालात मैं नहीं वहन कर सकती | जाएँ तो जाएँ कहाँ |दूसरी बड़ी समस्या है रोजगारी की | देश के पास जनसंख्या के अनुपात में नोकरी नहीं हैं |  हमारे देश का युवक अपने खानदानी स्किल में भविष्य न दिखाई देने के कारण शहर की ओर नोकरी के लिए भाग रहा है | हमारी स्कूल कोलेज की शिक्षा स्किल रहित होने के कारण युवक को 10 वीं पास करते ही निकम्मा बना कर बेरोजगारी की लाइन में खड़ा कर देती है | 12 वीं के बाद उसे घर के काम में भी शर्म आने लगती है | इसी कारण हमारे युवा ने उनमें भविष्य देखना बंद कर दिया और चल दिए अपना घर का रोजगार छोड़ बेरोजगारी बन बेरोजगार कर्यालय में नाम लिखाने  इन दोनों समस्याओं को आने से पूर्व ही समाधान करने वाली व्यवस्था हमारी रोजगार व् आरोग्य उन्मुखी सभी प्राचीन परम्पराओं व् चिकित्सा पद्धतियों को पिछले 75 वर्षों में बड़े षड्यंत्र के तहत योजना पूर्वक पीछे धकेला है अपितु उनके वारे में जन मानस में भ्रम व् ग्लानी फेलाकर सम्पूर्ण समाप्त करने का कार्य हुआ है| आज ये कार्य पिछड़ चुका है|  चाहे इसमें बहुत ताकत है लेकिन आज का जन मानस इसे हेय दृष्टि से ही देखता है अर्थात सम्मान की दृष्टि से नहीं देखता |आरोग्य पीठ ने इन प्राचीन पद्धतियों के संरक्षण व् सम्वर्धन का बीड़ा उठाया है | न्यूरोथैरेपी को आदर्श के रूप में आगे रखा है | इस स्वदेशी प्राचीन विज्ञानं को आरोग्य व् आजीविका के लिए आशा की किरण बनाने विश्व के सर्वोच्च शिखर तक ले कर जाना है| ये तभी सम्भव होगा जव हम आरोग्य पीठ के नवरत्न इस कार्य के लिए परम आवश्यक जीवन मूल्यों को जीने के लिए कटिबद्ध होकर आगेआएंगे | लोगों में फिर से विश्वास जगाने व्के उसे जीतने के लिए हमें उच्च मापदन्डों को स्थापित करना होगा | रोगी की संतुष्टि हमारा प्रथम लक्ष्य होगा | एक स्वच्छ व् पवित्र वातावरण में सेवा भावना से विना छुआछूत के बड़ी विनम्रता से उसके मंगल की कामना करते हुए श्रद्धा व् समर्पण से कार्यरत होंगे तो कस्टमर ( रोगी ) संतुष्ट भी होगा व् परिणाम भी मिलेगा| | यह विज्ञानं अपने आप ही समाज में स्थापित होकर आशा की किरण वन जायेगा |सौभाग्य से हम न्यूरो थैरेपी को भारत सरकार से मान्यता दिला कर एक आदर्श के स्थान पर ले कर आचुके हैं |अब लोग इसमें उपचार कराने आयेंगे तो युवाओं को रोज्गार हेतु सीखने के लिए अधिक कहने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्यों की इसमें रोगी को सरल व् सफल उपचार मिलेगा तथा युवा को एक श्रेष्ठ रोजगार जहाँ पैसा के साथ साथ सम्मान व् संतुष्टि तीनों अपने ही स्थान पर एक साथ मिल जाएँगी| देश स्वस्थ, निरोगी व् आत्मनिर्भर बन जायेगा |More View Here: https://bit.ly/3nQBvqE