CATEGORIES
जिंदगी पार्ट 2
 23 May 2018  

जिंदगी की सच्चाइयों से रूबरू होकर बस इतना जान पाई हूँ मै हम सब यहाँ एक अभिनय करते हैं जिसका लेखक ऊपर वाला है ये बात हम सभी जानते हैं फिर भी ना जाने क्यों परेशान रहते हैं ...शायद उस परेशानी की वजह हमारे आने वाले कल की फिकर या किसी अपने को खो देने का डर या फिर कोई हमसे आगे ना निकल जाये इस बात की चिंता या फिर हम इस जिंदगी के सफ़र मैं कहीं पीछे ना छूट जाये इस बात का डर.....वजह कोई भी हो सच्च तो यही है कल क्या होगा इसकी खबर नही और इसकी फिकर है की महज से  जाती नही शायद इसी का नाम जिंदगी है......             बेफिकर होकर हम भी उड़ते आसमान मैं             अगर हम इन्सान ना होते तब शायद कल की फिकर हमें भी ना सताती अगर हम इंसान ना होते तब शायद जिंदगी का फसाना कुछ और ही होता और तराने भी ....