Image

" पत्थर के फूल "

मैं एक फूल था गुलशन में और फूलों की तरह , 

मैं भी खिलना लहराना मुस्कुराना चाहता था बाघ के और फूलों की तरह ! 

हालातों ने मेरा मुझसे वह बचपन छीन लिया , 

और एक नन्हे से फूल को पत्थर का बना दिया !!

" More story read in caption "