Image

*लिलीथ की कहानी*
एक लंबे समय पहले मुझे लिलीथ की इस कहानी को पढ़ने का मौका मिली थी। मेरे लिए वह एकमात्र विद्रोही पौराणिक नारी चरित्र है।
.........................................................................
पारंपरिक बाइबिल कई धार्मिक फिल्टरों से गुजर चुका है और यह कुछ महत्वपूर्ण वर्गों और टुकड़ों को भी  खो दिया है। हालांकि, इसमें एक हिस्सा है जो इसमें छोड़ा गया है जो बताता है कि ईश्वर ने मनुष्य सृष्टिके पहले मुहुर्त में न केवल एक आदमी बल्कि एक महिला को बनाया है। कहा जाता है कि ओ  लिलिथ थी दुनिया की पहली महिला और उसे   भगवान ने उसी मिट्टी से बनाया था जिस मिट्टी से  उसने आदम को बनाया था। ऐसा कहा जाता है कि लिलिथ को तब भगवान ने त्याग दिया और खारिज कर दिया जब यह पाया गया कि वह आदम से मजबूत और अधिक बुद्धिमान है  और वह आदम के आदेशों का पालन नहीं कर रही थी। मानवता की उत्पत्ति को समझने के लिए बाइबिल में इस चरित्र का उल्लेख नहीं किया गया था क्योंकि लिलीथ  चर्च की परंपरा के खिलाफ थी जो कहता है कि महिलाओं को पुरुषों को मानना होगा और उनके स्तिति  पुरुषों की तुलना में कम   होना चाहिए। लिलिथ एक ऐसी महिला थी  जो दृढ़ थी, और वह बुद्धिमान थी और आदम से बेहतर  थी। हालांकि, आदम के चरित्र अधिक प्रभावशाली था। अंतरंगता के समय में, लिलीथ ने मांग कि ओ आदम के ऊपर  हो सकती है, लेकिन आदम ने इनकार कर दिया। ऐसा कहा जाता था कि एहि सुरुवात थी झगड़े का। इसलिए दोनों को अलग किया था और  भगवान द्वारा लिलिथ पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। किताब कहती है, लिलिथ: "मुझे तुम्हारे नीचे क्यों होना  चाहिए?  मुझे भी उसि मिट्टी से बनाया गया है जिस में तुम बने हो,  और इसलिए मैं तुम्हारा बराबर हूं।" पर आदम ने नेहीँ मानी और  जैसे ही  ने उसे आज्ञा मानने के लिए मजबूर करने की कोशिश की, लिलिथ ने गुस्सा किया, भगवान के नाम का उच्चारण किया, और छोड़ कर चालि गयी।  उसके बाद ईस्वर ने इव  को आदम की पसलियों से बनाया  था। लिलीथ की चरित्र को बाइबल से सेंसर किए गया  क्योंकि उसने महिलाओं को सशक्तिकरण के विचार देती है। लेकिन अगर लिलीथ चले गए, तो बड़ा सवाल यह है कि वह कहाँ गई थी? यह कहा गया है कि  कि वह सीधे शैतान की बाहों में भाग गई। लिलीथ पहली महिला थी, इव से पहले, लेकिन वह अधिक बुद्धिमान और विद्रोही थी और मनुष्य की तुलना में एक बेहतर चरित्र थी, इसलिए उसे दंडित किया गया और उसकी गाथा बाइबल से काट दिया गया ।
.................................................. ..........................

यह लिलीथ की दुखद कहानी है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, हम ईव के वंशज है लिलीथ के नहीं । सायेद इस लिए  किसी भी असमानता के खिलाफ हमारी आवाज उठाना इतना  सहज नहीं होता है। एक राशनलिस्ट होने के नाते मैं जीवन की पौराणिक उत्पत्ति में विश्वास नहीं करति हूं, फिर भी यदि मुझे चयन करने को कहा जाए, निश्चित रूप से में अपने  पूर्बज के रूप में  रूप में इव के बजाय लिलीथ का चयन करूंगी।

Rajabala