Image

मां मैं कहां महफूज हूं ?                            बता न मां मैं कहां महफूज हूं ?                 बाबा की बाड़ी में दरिंदों का बसेरा है!       चाचा ,ताऊ ,भैया सब ने मुझे घेरा है |      क्यों ?                                                 क्योंकि मैं लड़की हूं ?                         जिंदगी को समझ भी न पाई|                   और जिंदगी मुझसे रुठ गई|                आखिर क्यों मुझे पैदा किया?                    क्यों मुझे चलना सिखाया ?                         मेरी छोटी -   छोटी  उंगलियों को ,         किसके हाथों में थमा दिया?                      पता है मां , पहले मेरी उंगली पकड़ी ,फिर मुझे गोद में उठाया मैं तो समझी यह दुलार है !उसके बाद मत पूछो मां,                        भेड़ियों की तरह मुझे रोज खाया |                मां मैं कहां महफूज हूं ?                             बता ना मां मैं कहां  महफूज हूं? 

                     पूजा रत्नाकर