Image

वर्तमान समय को विज्ञापन का युग कहना गलत नहीं होगा | क्योंकि आज का समय विज्ञापन का बोलबाला है पूरी की पूरी मार्किट विज्ञापन पर ही टिकी हुई है | असल विज्ञापन की वजह यह है कि एक ही प्रोडक्ट को बनाने वाली हजारों कंपनियां होती है | जो अलग अलग अलग तरीकों से अपने प्रोडक्ट ग्राहकों तक पहुँचती है |

अगर आपके अंदर कुछ क्रिएटिव करने की इच्छा है और आपके पास मार्केटिंग करने के आइडियाज है तो विज्ञापन के क्षेत्र में आप अपना अच्छा करियर बना सकते है |

आपकी जानकरी के लिए बता दे जब से दुनिया में इंटरनेट का क्रेज बढ़ा है | तब से विज्ञापन का क्षेत्र लगातार तरक्की कर रहा है | प्रिंट मीडिया से लेकर टेलीविजन और अब इंटरनेट जैसे प्लेटफॉर्म पर विज्ञापन और उससे बढ़ती हुई कमाई को देखते हुए इस क्षेत्र में काम करने वाले प्रोफेशनल की मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है |

इसलिए आज हम आपको इस लेख में एडवरटाइजिंग से जुड़े इस करियर के बारे सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है कि दोस्तों इस लेख में हमने आपको डिजिटल मीडिया से जुड़े एडवरटाइजिंग करियर के बारे में सम्पूर्ण जानकरी दी है | कि किस प्रकार से आप इस क्षेत्र में अपने कदम बढ़ा सकते है इस लेख में हमने आपको बताया कि एडवरटाइजिंग क्या है ? Advertising Kya Hai एडवरटाइजिंग में करियर कैसे बनाये ? Advertising Me Career Kaise Banaye डिजिटल मीडिया में करियर कैसे बनाये ? Digital Media Me Career Kaise Banaye | मीडिया में करियर कैसे बनाये Media Me Career Kaise Banaye इत्यादि | अगर आप भी इस क्षेत्र में करियर बनाने की सोच रहे है तो इस लेख को अंत तक पढ़े ?

एडवरटाइजिंग क्या है | What is Advertising


वैसे देखा जाये तो प्रोडक्ट की एडवरटाइजिंग करना ये कोई नया तरीका नहीं है | एडवरटाइजिंग का इतिहास बहुत पुराना है | विज्ञापन का काम करने वाली कंपनियां वर्ष 1905 से देश के अंदर काम कर रही है लेकिन समय के साथ एडवरटाइजिंग करने के तरीकों में भी काफी बदलाव होता जा रहा है | पुराने समय में विज्ञापन का जो कार्य दीवारों पर प्रोडक्ट के चित्र बनाकर किया जाता था | आज वही कार्य वीडियो डिजिटल ग्राफ़िक्स के माध्यम से किया जा रहा है |

परन्तु प्रत्येक प्रोडक्ट की बिक्री उसकी क्वालिटी और विज्ञापन पर निर्भर करती है | जिसके कारण विज्ञापन का क्षेत्र एक अच्छे करियर विकल्प के रूप में उभर रहा है | देश के अंदर प्रोडक्ट का जितना बड़ा बाजार होगा उतना ही ज्यादा मार्किट में कॉम्पिटीशन होगा |

विज्ञापन का इस्तेमाल


आपने भी पत्र पत्रिकाओं , टीवी , अखबारों , और सड़को पर बड़े बड़े होर्डिंग्स बैनर ज़रूर देखे होंगे | इन विज्ञापनों में आप प्रोडक्ट को देखकर उस प्रोडक्ट के बारे में जाने के लिए उत्साहित रहते है | कि ये इतना अच्छा विज्ञापन किस प्रोडक्ट का है | आपको विज्ञापन के डिज़ाइन काफी आकर्षित करते है जिसके कारण आप उस प्रोडक्ट की तरफ खींचे चले आते है |

इसे भी जरूर पढे : -  वीडियो एडिटर कैसे बने |

आखिर में इसके पीछे कौन सी शक्ति काम करती है जो हमे उस प्रोडक्ट को खरीदने के लिए मेंटली दबाव डालती है असल में यह सारा खेल एडवरटाइजिंग एजेंसियों का होता है जो उनकी टीम के द्वारा तैयार किया जाता है |
विज्ञापन को डिजाइन करने से लेकर उसे मार्किट में सफलतापूर्वक पहचान दिलाने का श्रेय इस एडवरटाइजिंग टीम को ही जाता है | जिसके कारण ये कंपनियां लाखों करोड़ों रुपये का फायदा लेती है |

योग्यता Qualification
अगर कोई भी विधार्थी विज्ञापन के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहता है तो उसे कम से कम बारहवीं की परीक्षा पास करना अनिवार्य है उसके बाद आप विज्ञापन के क्षेत्र से जुड़े कुछ डिग्री डिप्लोमा कोर्स कर सकते है | इन कोर्स की अवधि दो से तीन वर्ष के बीच होती है | विज्ञापन से जुड़े कुछ कोर्स ऐसे भी है जिन्हे आप ग्रेजुएशन के बाद कर सकते है |

एडवरटाइजिंग संबंधी कुछ प्रमुख कोर्स
Bachelor of Journalism & Mass Communication
BA in Advertising and Brand Management
Master of Journalism and Mass Communication)?
PG Diploma in Advertising
MBA in Advertising


एडवरटाइजिंग से जुड़े कुछ प्रमुख कार्य क्षेत्र
एडवरटाइजिंग Advertising का क्षेत्र बहुत बड़ा है | जिसके अंदर काम करने के लिए अलग अलग कार्य क्षेत्र मौजूद है आप अपनी इच्छानुसार किसी भी क्षेत्र का चुनाव कर सकते है |

इसे भी जरूर पढे : - डिजिटल मार्केटिंग मे करिअर कैसे बनाए |

क्रिएटिव डिपार्टमेंट – इस डिपार्टमेंट के अंतर्गत कॉपी राइटर , विजुअलाइजर , फोटोग्राफर , इत्यादि कार्य किये जाते है , इस सभी का काम विज्ञापनों के लिए पंच-लाइन या स्लोगन लिखना , ग्राफ़िक्स डिज़ाइन करना , विज्ञापन के लिए फोटो खींचना स्केचिंग तैयार करना इत्यादि प्रकार के कार्य किये जाते है | इस प्रकार के कार्यो के लिए उन लोगो की ज्यादा डिमांड है जो कुछ अलग हटकर काम करना चाहते है |

क्लाइंट सर्विसिंग – इस डिपार्टमेंट में अकाउंट एग्जीक्यूटिव , बिज़नेस डेवलपमेंट मैनेजर , मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव तथा मार्केटिंग डायरेक्टर से संबंधित पद होते है | क्लाइंट सर्विसिंग और एडवरटाइजिंग का आपस में वही संबंध है जो दिल और शरीर का होता है | इनका काम विज्ञापन का बजट तैयार करना , विज्ञापन के लिए माध्यम तैयार करना , कंपनियों से विज्ञापन लेना ,क्लाइंट से विज्ञापन डील करना और ग्रुप मैनेजिंग जैसे कार्य इनकी देख रेख में किये जाते है |

मीडिया प्लानिंग
– इस डिपार्टमेंट का काम विज्ञापन तैयार होने के बाद उसे कौन कौन से प्लेटफार्म पर प्रकाशित करना ये सभी कार्य इनके द्वारा किये जाते है | इस डिपार्टमेंट का मुख्य काम प्रोडक्ट संबंधी ग्राहकों को टारगेट करना है ताकि ज्यादा से ज्यादा ग्राहक उस विज्ञापन से प्रभावित होकर उस प्रोडक्ट को खरीद ले |

इसे भी जरूर पढे : - वॉइस ओवर आर्टिस्ट कैसे बने |

रिसर्च डेवलपमेंट – कोई भी काम एक दम से शुरू नहीं किया जाता उसे शुरू करने से पहले उस काम की पूरी प्लानिंग की जाती है तब जाकर आप उस काम को शुरू करते है | यंहा पर भी ऐसा ही है कोई भी विज्ञापन शुरू करने से पहले एडवरटाइजिंग कम्पनी उस विज्ञापन के बारे में कई प्रकार की रिसर्च करती है जैसे कि इस विज्ञापन का ग्राहकों में कितना असर देखने को मिल सकता है , नए विज्ञापन करने से हमें पहले के मुकाबले कितना अधिक लाभ होगा | इस प्रकार के रिसर्च संबंधी सभी प्रकार के कार्य रिसर्च डिपार्टमेंट के द्वारा किये जाते है |

रोजगार की सम्भावनाये
जैसे कि आपको पता लग चूका है कि एडवरटाइजिंग का क्षेत्र बहुत ज्यादा फैला हुआ है | तो इस क्षेत्र में रोज़गार के अवसर भी भरपूर है | इस इंडस्ट्री में युवा अपनी पसंद से कोई भी डिपार्टमेंट चुन सकते है | विज्ञापन के बढ़ती हुई डिमांड को देखते हुए नई नई विज्ञापन एजेंसीज खुल रही है जिनमे आप अपनी आवश्यकता के अनुसार जॉब प्राप्त कर सकते है | आने वाले समय में यह इंडस्ट्री और भी ग्रो करने वाली है |

इसे भी जरूर पढे : - डिजिटल बैंकिंग क्या है |

इसलिए अभी आपके पास इस इंडस्ट्री में करियर बनाने का अच्छा मौका है इस क्षेत्र में क्रिएटिविटी के मांग बहुत ज्यादा रहती है | अगर आपको इस इंडस्ट्री की अच्छी जानकारी हो जाती है तो आप घर बैठे फ्रीलांस वर्क भी कर सकते है और अच्छी इनकम प्राप्त कर सकते है |

सेलरी Salary
विज्ञापन का क्षेत्र आज का उभरता हुआ क्षेत्र है जिसमे आपको शुरुआती सेलरी भी अच्छी मिल जाती है | अगर आप इस इंडस्ट्री में अपने करियर की शुरुआत करते है |तो आपको अलग अलग डिपार्टमेंट के अनुसार आपकी सेलरी में भी अंतर होता है |
शुरुआत में प्रोडक्शन मैनेजर को 15 हजार , कॉपीराइटर को 20 हजार , अकाउंट मैनेजर को 35 से 40 हजार रूपये प्रतिमाह तक मिल जाते है | जिस प्रकार से आपका अनुभव बढ़ता है उसी प्रकार से आपकी सेलरी भी बढ़ती जाती है | आप चाहे तो इस इंडस्ट्री में एक लाख रूपये महीने तक भी आसानी से पहुंच सकते है |

इसे भी जरूर पढे : - रिटेल मैनेजमेंट में करियर कैसे बनाये |

फ्रीलांसर वर्क में आप अपने अनुभव के अनुसार प्रति घंटे के हिसाब से चार्ज कर सकते है |

दोस्तों इस लेख में हमने आपको डिजिटल मीडिया से जुड़े एडवरटाइजिंग करियर के बारे में सम्पूर्ण जानकरी दी है | कि किस प्रकार से आप इस क्षेत्र में अपने कदम बढ़ा सकते है इस लेख में हमने आपको बताया कि एडवरटाइजिंग क्या है ? Advertising Kya Hai एडवरटाइजिंग में करियर कैसे बनाये ? Advertising Me Career Kaise Banaye डिजिटल मीडिया में करियर कैसे बनाये ? Digital Media Me Career Kaise Banaye | मीडिया में करियर कैसे बनाये Media Me Career Kaise Banaye इत्यादि | अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते है और इस जानकारी को दुसरो के साथ भी शेयर करे ताकि उन्हें भी इस बारे में पता चल सके | अगर आपका इस करियर को लेकर किसी प्रकार का सवाल है तो आप कमेंट करके पूछ सकते है |