Image

दर्द हीरा है
दर्द मोती है
आँखों से यूँ
न बहाया करिये
चाँद को वक़्त नही
धरती पर आने का
नूर ख़ुद में जो है
उसी से जगमगाया करिये
ख़ुद को बचा कर रखा है क्यों
लड़कपन को ज़रा दोहराया करिये
नही मिलता वफ़ादार कोई माशूक़
तो परेसान क्यों मन तेरा
ख़ुद से ख़ुद का इश्क़ फ़रमाया करिये।