Image

तुझको संवार देता अगर मुझको तू अपना लेता 

मौका दिया नहीं अपना कहा नहीं मैं क्या करता ||

आशिकी के लिए हर कदम लड़ती रही है जिंदगी
ये बात और है हर किसी ने इस खेल में खाया है धोखा ||

तू भगवान तो नहीं फिर भी परस्तिश करी है तेरी
मुझे आशना कहे तो फिर तू ही हुआ खुदा मेरा ||


मेरे दिल की बात सुन कर चाहे तू चली जाना 
शिकवा नहीं करूंगा , मैने तुझको है अपना माना ||

तेरे गेसुओं से मुझको हेगा लिपट के रोना 
मुददत हुई है रोके ये सैलाब आसूँओं  का ||

मुझको पता है दिलबर तू मेरी न हो सकेगी 
बहमों यकी के चलते अब हो रहा है जीना ||

दुनिया में अनेक होंगे मुझसे अबोध बालक 
तेरे इश्क की मजम्मत मुझको ही पडा रोना ||