Image

मेरे हुनर मेरे जज़्बात सब बेमोल हो रहे है
दुनियाँ से कहो की थोड़ा आजमाये मुझे

है अगर आईना वो जो चमकता है
तो आये और आईना दिखाये मुझे

मोती नही बस खारे पानी से बेमतलब थे वो कतरे
अब रेत में बिखरे है...
है अगर ताक़त तो समेट लाये उसे

ज़लील होना मज़ा देता है अब
है हिमाक़त अग़र क़ायनात में तो
मज़ा बदल कर दिखाए हमे।