Image

😘मां😘
ममता की मूरत में सूरत मां की याद आती है,
इस दुनिया की भीड़ में गोद मां की याद आती हैं,
परेशानियों की धूप में ,
मां तेरे आंचल की छाया याद आती हैं,
जब भी नाम कोई ईश्वर का लेता है बस मां ,
तु ही याद आती है,

जन्नत के आशियाने की ख्वाहिश नहीं मुझे....
ज़िंदगी के मेले में अपनी पहचान बनाने की जरूरत नहीं मुझे...
कोई कहता है उसकी बेटी है,
कोई कहता है उसकी बहू है,
इन लफ्जो से ज्यादा कुछ जरूरी नहीं मुझे....

दोनों मां का आशीर्वाद किसी दुआ से कम नहीं...
तेरा ये आंचल का आशियां किसी जन्नत से कम नहीं मां..😘
तुम्हारी बेटी 👸🏻✍🏻