Image

आज हम आपको इस लेख मे मोबाईल लोन से जुड़ी कुछ ऐसी बाते बता रहे है, जिनके बारे मे सभी यूजर्स को जानना चाहिए ताकि उनके साथ कभी भी किसी प्रकार की समस्या न हो। इस लेख मे हम जानेंगे मोबाईल लोन ऐप फ्रॉड से कैसे बचे।

मोबाइल ऐप से लोन लेने की जरूरत

अगर किसी व्यक्ति को पैसों की जरूरत होती है और उसे ये पैसे किसी से उधार न मिले तो बाद मे उनके सामने एक ही विकल्प बचता है और वो है बैंक या फिर लोन वित्तीय कॉम्पनी ऐसें मे अगर आपका बैंक मे पुराना रिकॉर्ड्स सही है, तो आपको लोन आसानी से मिल जाता है।जो आपको एक तय समय मे ब्याज दर के साथ चुकाना पड़ता है। आप उस  लोन का इस्तेमाल कार खरीदने  घर खरीदने , इत्यादि जैसे कामों मे कर सकते है।

लेकिन जरूरत पड़ने पर लोन लेना उन लोगों के लिए परेशानी का सबब बन जाता है। जिनके पास बैंक अकाउंट ही नहीं है और न ही उन्होंने किसी वित्तीय कंम्पनी से लेन देने किया है जिसके कारण उन्हे लोन नहीं मिल पाता है।

पुराने समय मे इसी काम को साहूकार लोग किया करते थे जो जरूरत पड़ने पर लोगों को ब्याज पर पैसे दिया करते थे। लेकिन अब समय बदल गया है, उनकी जगह कुछ वित्तीय कॉम्पनीय या नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों  (NBFC) ने ले ली है। जो आपको घर बैठे एक मोबाईल एप्लीकेशन की सहायता से लोन लेने की सुविधा देती  है। लेकिन ये नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों आपको ज्यादा बड़े लोन नहीं देती है ये आपको सिर्फ छोटी रकम वाले लोन ही देती है।  

नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियाँ क्या होती है ? 

इन कंम्पनियों को हम आपको एक साधारण उदाहरण से समझाते है |आपने बॉलीवुड फिल्म का मशहूर डायलॉग तो सुना होगा कि पैसा भगवान तो नहीं है लेकिन भगवान से कम भी नहीं है।

कुछ इसी तरह से नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (NBFC) भी है ,कि नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां बैंक तो नहीं है लेकिन किसी  बैंक से कम भी नहीं हैं।

ऐसी कंपनी, जो बैंकों की तरह ही काम तो करती है लेकिन बैंकों की तरह भरोसे और गारंटी की बात नहीं करती है। नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियो की मोबाईल ऐप्लीकेशन से आप कुछ साधारण सी प्रकिरीय द्वारा ही आसानी से लोन प्राप्त कर सकते है। इसके लिए न आपका बैंक अकाउंट की जरूरत होती है और न ही किसी गारंटर की, लेकिन बैंको की तरह ही उनकी कंडीशन सख्त होती है जिसके एवज मे ये आपसे बैंको से ज्यादा ब्याज दर वसूलती है।

 देश की कुछ बड़ी मोबाइल से लोन देने वाली ऐप

वैसे तो अगर आप गूगल प्ले स्टोर पर लॉन देने वाली ऐप्लीकेशन के नाम सर्च करोगे तो आपको हजारों ऐप नजर आएगी। जिसमे ज्यादातर फेक भी होती है। जो आपके डाटा का गलत इस्तेमाल भी करती है।

ऐसे मे कई बार आपको सही ऐप्लीकेशन का चुनाव करने मे परेशानी भी होती है। ऐसे मे हम आपको कुछ ऐसी नामी ऐप के बारे मे जिनके माध्यम से आप आसानी से लॉन ले सकते है।

Indiabulls

इस ऐप की सहायता से आप एक हजार रुपये से लेकर 15 लाख रुपये तक का लोन ले सकते है इस लोन की अवधि तीन महीने से लेकर 36 महीने तक की होती है। इस लोन की ब्याज दर 10 % से 13 % तक होती है।  

Money Views

इस ऐप की सहायता से आप एक हजार रुपये से लेकर पाँच लाख रुपये तक का लोन ले सकते है।  

इसे भी जरूर पढे : डिजिटल मार्केटिंग मे करिअर कैसे बनाए

U Cash

इस ऐप की सहायता से आपको एक हजार रुपये से लेकर 25 हजार तक का लोन मिल सकता है इसकी सालाना ब्याज दर 32. 85 % से लेकर 35.77% तक है इस लोन को चुकाने की अवधि 91 दिनों की होती है।  

CashBean

इस ऐप की सहायता से आप एक हजार रुपए से लेकर 60 हजार रुपये तक लोन आसानी से ले सकते है इस लोन की सालाना ब्याज दर 33% फीसदी तक होती है और इस लोन को चुकाने की अवधि 91 से 120 दिनों के बीच होती है।  

इसे भी जरूर पढे :- अनलाइन फ्रॉड से कैसे बचे.

Rupee Max

इस ऐप की सहायता से आपको एक हजार रुपये से लेकर पाँच हजार रुपये तक का लोन आसानी से मिल जाता है जिसकी ब्याज दर 33% सालाना तक होती है और इस लोन को चुकाने की अवधि 90 से 180 दिनों के बीच होती है।

इसे भी जरूर पढे :- ऐसे कीवर्ड्स जिन्हे गूगल पर भूलकर भी न सर्च करे

इसके अलावा भी और बहुत ऐप्लीकेशन है जिनसे आप घर बैठे मोबाईल से लोन ले सकते है जैसे कि MoneyTap, CashE , Credy, LazyPay , Early Salary इत्यादि।

मोबइल ऐप से लोन कैसे मिलता है  ? 

मोबाईल से लोन देने वाली ऐप का मार्केट मे फेमस होने का सबसे बड़ा कारण ही यह है कि इसमे आपको सिर्फ आधार कार्ड और पेन कार्ड से ही लोन आसानी से मिल जाता है।

इसे भी जरूर पढे :- कपल चैलेंज के अनलाइन फ्रॉड का तरीका है

इसके लिए आपको बैंकों की तरह कागजी पर्करीय  मे इधर उधर के ज्यादा चक्कर नहीं लगाने पड़ते और न  ही किसी गारंटी के तौर पर  गारंटर की जरूरत होती है।

मोबाईल से लोन लेने के कुछ बड़े नुकसान 

1. मोबाईल से लोन लेने का सबसे बड़ा नुकसान ये है इसमे कॉम्पनीय आपसे भारी ब्याज दर वसूलती है। जिसमे आपको 10 फीसदी ब्याज से लेकर 30 फीसदी ब्याज तक चुकाना पड़ता है।

उदाहरण के तौर पर अगर आप एक लाख रुपये का लोन लेते है, तो आपको एक वर्ष बाद एक लाख रुपये के एक लाख  30 हजार तक चुकाने पड़ते है जोकि बैंक लोन की तुलना मे बहुत ज्यादा है।

इसे भी जरूर पढे :- डीप लर्निंग तकनीक क्या है

2. मोबाईल से लोन देने वाली ऐप्लीकेशन मे बहुत सी ऐप ऐसी भी होती है, जो बैंकिंग नियमों को ताक पर रख देती है और चोरी छुपे बहुत से अलग से चार्ज लगा देती है।

जिसके बारे मे ग्राहक को नहीं बताया जाता है लेकिन लोन चुकाने के वक्त इन चार्ज के बारे मे ग्राहक को बताया जाता है ऐसे मे मजबूरन  ग्राहक को ये रकम भी चुकनी पड़ती है।

3. मोबाईल ऐप से लोन देने वाली कंम्पनियों के साथ अक्सर इस प्रकार कि समस्याएँ होती रहती है जिसका हर्जाना ग्राहक को चुकाना पड़ता है। पेमेंट करने के बाद अमाउंट अपडेट न होने, और  गलत रकम पर ब्याज लेने जैसी शिकायतों से लगातार ग्राहक परेशान  रहते हैं।

4. मोबाईल से लोन देने वाली ऐप गूगल प्ले स्टोर पर हजारों मे मौजूद है जिनमे ज्यादातर फेक ऐप भी होती है ये आपको छोटे अमाउन्ट वाले लोन तो दे देती है लेकिन लोन देने के बाद ये लगातार लोगों को परेशान करते रहते है।

इसे भी जरूर पढे :- डिजिटल मार्केटिंग मे करिअर कैसे बनाए

5. इन ऐप की सहायता से लोगों को जान से मारने तक की धमकीया भी दी जा रही है , इस प्रकार की शिकायतें बहुत सामने आ रही है ,इसके अलावा अश्लील फोटो कॉन्टैक्ट लिस्ट के साथ शेयर करने जैसी आपराधिक शिकायतें भी सामने आईं. इस प्रकार की परेशानियों से तंग आकार देश के कुछ नौजवान सुसाइड भी कर चुके है जोकि एक चोकाने वाली बात है।

इस प्रकार कि शिकायतें आने के बाद गूगल ने एक्शन लिया है तब जाकर बहुत मनी लैंडिंग ऐप गूगल प्लेस्टोर से हटाई है लेकिन परेशानी अभी भी कम नहीं हुई है ऐसे मे आपको मोबाईल से लोन लेते वक्त बहुत सावधान रहना होगा।

इसे भी जरूर पढे : सरकार के साथ मिलकर सौर ऊर्जा या सोलर पेनल का बिजनेस शुरू करे।

देश मे आगे से लोगों के साथ इस प्रकार कि समस्याएँ न हो तो इसके लिए मोबाईल से लोन देने वाली कंम्पनियों के लिए आरबीआई ने कुछ गाइडलाइंस जारी की है जिनका पालन करना करना अनिवार्य है।

आरबीआई ने फेक लोन ऐप का मामला क्यों उठाया  ?

बीते दिनों से फेक लोन ऐप पर धांधली की शिकायतें लगातार बढ़ती जा रही थी जिसके कारण लोगों को काफी समस्याएँ हो रही थी इसी के चलते  पुलिस ने गुरुग्राम और हैदराबाद के चार इंस्टेंट लोन ऐप्स के फाइनेंस ऑफिसों में  रेड की।

इन लोन ऐप के दो ऑफ़िस गुरुग्राम में और दो हैदराबाद में हैं। इन ऑफिसों  का नेटवर्क  जकार्ता  ( इंडोनेशिया ) से चल रहा था। 

इसे भी जरूर पढे :- मोबाइल रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाये

पुलिस के अनुसार इन चार ऑफिसों से 30 लोन ऐप्लीकेशन चल रही थी जो अलग अलग तरीकों से लोगों को अपने जाल मे फसाते है। ये सभी लोन ऐप RBI की मंजूरी के बिना लोगों को लोन दे रही थी और लोगों से 20 से 35 फीसदी तक का ब्याज वसूल रही थी। मतलब कि तीन महीने मे ही लोन का पैसा आपको डबल करके चुकाना पड़ता था।  

लेकिन अगर किसी कारण वश आप समय पर किस्त नहीं चुका पाते , तो लोन ऐप वाले लोगों को धमकिया देते थे, यही कारण है कि बहुत से लोग इनकी धमकियों से इतना डर जाते थे। कि वे अपनी जान तक ले लेते थे। हैदराबाद मे तीन लोगों की आत्महत्या के बाद इस प्रकार के मामले सामने आये।