Image

Is it really our business to tell ppl, whom to choose ,whom not to,nepotism in bollywood !!fine,v who r talking so big abt opening up, speaking up,,,,, r judging ppl sitting in our home.
अरे उसकी मर्जी भाई जिसे चाहे लेना चाहे, जैसे पैसा बनाना चाहे, बनाने दो ।।। जिसमें टैलेंट होगा वह पिक जाएगा ।
आलिया को अब हम डिप्रेशन की तरफ ढकेलेंगे ।उसे करण जौहर ने ब्रेक दिया । Fine ,
पर आज वह अपने टैलेंट के बल पर इंडस्ट्री में टिकी हुई है बाकी भी तो और कई सारे एक्टर्स को जौहर ने पैसा बनाने के लिए इंट्रोड्यूस किया पर कितने टिके????
बात हमें करनी चाहिए उस खुल्लम खुल्ला बेशर्मी से सेंस ऑफ ह्यूमर के नाम पर जो फिल्म अवॉर्ड्स के स्टेज पर शाहरुख खान और करण जौहर कितने एक्टर्स की धज्जियां उड़ाते हैं उसके बारे में ।
नील नितिन  ,सुशांत और न जाने कितने एक्टर्स को उन्होंने स्टेज पर वाहियात तरीके से मजाक का पात्र बनाया।
यह गलत है कि जब आप जानते हो कि जौहर जैसे लोग हैं आप उसके टॉक शो पर क्यों जाते हो?
सब एक दूसरे को भुनाने का खेल है बॉयकॉट बॉलीवुड ,,बॉलीवुड को आइना दिखाना है !!  
कैसे कौन!!!! जो बड़ी-बड़ी बातें करते हैं !और खुद ही अमल नहीं करते !
समझो इस बात को अगर एक आदमी आपके खिलाफ है तो 4 ऐसे भी हैं जो आपका साथ देने की चाह रखते हैं ।होते हैं हमारे आसपास अच्छे लोग भी ।जरूरत है कि हम अपनी मानसिक स्थिति का आकलन करें ,उसके बारे में राय ले, चिकित्सा कराएं और उन लोगों को देखें और उनके साथ समय बिताने की कोशिश करें, जो हमारा साथ देते हैं। डिप्रेशन एक बीमारी है इसका इलाज करना है।
किस फील्ड में नहीं होता एक्सप्लोइटेशन कहां नेपोटिज्म नहीं होता??? हर जगह होता है!! परिवार में होता है ,नौकरी में होता है,  बिजनेस में होता है !!
किस किस चीज से भागोगे!!
किस किस चीज को बॉयकॉट करोगे !!
समय है खुद में झांकने का ।
समय है दूसरों को नीचा दिखाने से बचने का ।
समय है चीजों को पॉजिटिव दृष्टिकोण से देखने का ।
बस इतनी सी बात है।।।।
-मीनू