Image

बहुत कुछ करता है वो मेरे लिए!
कल उसके लिए कुछ करने का दिन था..!
पूरी ज़िंदगी उसके साथ यूँही गुज़रती रहे,
इस लिए उसकी लम्बी उम्र माँगने का दिन था!
बहुत दूर था वो उस एक दिन मुझसे,
पर फिर भी उसे नज़दीक महेसुस करने का दिन था!
जितना कर सके उसके लिए उतना कम है उसके लिए,
फिर भी थोड़ा बहोत उसके लिए करने का दिन था!
जो शायद पुरी उम्र गुज़रने पर भी ना कहे सके,
वो कुछ अल्फ़ाज़ एक दिन मैं बयान करने का दिन था!
प्यार तो करते है बेइनतहा उससे,
उसके सिवा भी बहुत कुछ कर सकते है- ये एक सच बताने का दिन था!

-स्नेहा प्रतीकसिंह चौहान